/ / मम्मी बनी रखेल बेगम जान!
Bhai Behan Sex Story Couple Sex Story Desi Sex Story Girlfriend Sex Story Group Sex Story Hindi Sex Story Porn Story Romantic Sex Story XXX Story

मम्मी बनी रखेल बेगम जान!

मौलवी साहब की चुदाई से मम्मी का चेहरा ओर भी निखर गया था आमिर ओर शोकत के लंड का वीर्य पीकर मम्मी की खुबसूरती ओर बढ रही थी। अगले दिन सुबह, अपने तय समय के हिसाब से दस बजे आमिर के घर पर पहुंच गयी मगर आज घर अंदर से लोक था। 

मम्मी ने डोरबैल बजाई तो एक आदमी आया ओर उसने गेट खोल दिया मम्मी उसको देखकर थोडा घबरा गयी ओर आमिर साहब कहा है ये पूछा, 

तो उसने कहा – आमिर जी उपर है आप अंदर आ जाओ। 

तो मम्मी ने कहा – उन्हे ही भेज दो नीचे 

उसने कहा – आप बाहर के कमरे मे बैठ जाए मे आमिर जी को नीचे भेजता हू 

ये सुनकर मम्मी अंदर आ गयी ओर कमरे मे बैठकर आमिर का इंतजार करने लगी, पांच मिनट बाद आमिर नीचे आया ओर आते ही उसने मम्मी को गले लगा लिया ओर चुमने लगा। तभी सिढीयो से कीसी के नीचे आने की आवाज आई तो दोनो अलग होकर बैठ गये। 

दरअसल, ईद का त्योहार आ रहा था कुछ दिनो बाद तो आमिर के कुछ  जिगरी दोस्त आये थे वो सभी मौलवी ही थे एकसाथ ही पढे लिखे थे सभी ओर सभी एक दूसरे से मिलते रहते थे। तभी एक 6.2  का हट्टा कट्टा आमिर की उम्र का आदमी कमरे मे आ गया, उसने सफेद कुर्ता ओर लुगी बाध रखी थी, गोरा रंग, काली ढाढी, ओर उपर जालीदार टोपी मे वो गजब का लग रहा था। 

कुछ ही देर में मम्मी का मुस्लिम थ्रीसम सेक्स होने वाला है,  बस पढ़ते रहिये। उसने मम्मी को घुरकर देखा उपर से नीचे तक मम्मी की दूध की घाटीया उनके टॉप से नजर आ रही थी जिसे वो घुरकर देखने लगा। मम्मी ने उसे देखकर अपनी नजरे नीचे कर ली तभी उसने आमिर से मम्मी का परिचय पूछा, 

ओर कहा – ये मोहतरमा कोन है?! 

तो आमिर ने कहा – उनकी जानकर है बच्चो को झाडा लगवाकर लेकर जाती है अपने ओर कोई तकलीफ हो तो झाडा लगवाने आती है 

तो उसने कहा – तुम्हारा झाडा लगने के बाद तो बार बार तुमसे ही झाडा लगवाना पडता है आमिर 

ये सुनकर मम्मी उसकी बातो का मतलब समझ गयी तभी वो खडा होकर चला गया ओर आमिर को कहा झाडा डालकर उपर आ जाना जल्दी। 

आमिर ने उसके जाने के बाद कहा – उसके दो दोस्त आए है ईद मनाने के लिए तो कुछ दिन मै चाहकर भी नही मिल पाऊगा क्योकी मै इनको मना भी नही कर सकता हू, तुम समझ गयी ना रेखा, ओर हम अब तीन जने है, तो तुमको भी तकलीफ हो जाएगी! 

जो लोग मेरी Antarvasna Maa Ki Kahani को शुरू से पढ़ रहे है उन्हें पता होगा की, मम्मी तो दस को झेल ले ओर फिर भी कोई तकलीफ नही होगी उन्हे, 

मम्मी ने आमिर से कहा – जब जिगरी दोस्त है तो मान जाएगे बात कर के देखना अगर नही माने तो मै कैसे रहूगी दस दिन तक तुम्हारे बिना, 

ओर खडी होकर आमिर के पास चली गयी, ओर आमिर को गले लगाकर कीस करने लगी। आमिर ने पहले ही प्लान बना रखा मम्मी की सामुहिक चुदाई करवाने का मगर वो खुद ये मम्मी से सुनना चाहता था। किस करते करते आमिर ने रूककर, 

मम्मी को कहा – अगर नही माने तो क्या करेगे रेखा 

तो मम्मी ने कहा – पहले बात तो करो 

तो आमिर ने कहा – हम मिल बाट कर ही खाते है इतने सालो से आज कहूगा तो आनको बुरा लगेगा ओर हमारा त्योहार भी आ गया है, तुम समझ सकती हो ना त्योहार पर तो हम बिलकुल भी मना नही कर सकते है, 

मै पूछने लायक होता तो पूछ ही लेता, कल रात को ही मेरी मजबूरी है तुम दस दिन तक अब मजबूरी समझकर मेरी मुझे माफ कर दो, मै अपना वादा नही निभा सका तुम्हे हर रोज सुख देने का! 

आमिर के चुभते शब्दो ने मम्मी को घायल कर दिया! 

आमिर ने कहा – दोस्तो के बिना कोई जीवन नही है तुम भी दोस्त हो मेरी तुम्हारे बिना जयपुर बेकार है जैसे वेसै इनके बिना जीवन बेकार है, दस दिन के लिए आए है, ओर इनसे नही कह पाऊगा इसलिए मै माफी चाहता हू, 

दस दिन बाद मे तुम्हे भोगकर दस दिनो की कसर निकाल दूंगा इनकी सेवा करना मेरा फर्ज है, मै अकेला तुम्हे भोगू ओर ये बाहर देखकर ऐसे ही रहे तो लानत है मेरी दोस्ती पर, 

तभी मम्मी ने कहा – तुम इतना कर रहै हो क्या ये भी तुम्हारे लिए इतना ही करते है 

तो आमिर ने कहा – अभी जो नीचे आए थे, उनका नाम नावेद था, इनके पास मे दो दिन के लिए गया तो इन्होने अपनी बीबी को मेरे पास भेजा था पूरी रात भोगने के लिए जैसा की मैने पहले ही कहा था, ओरत भोगने के लिए ही होती है! 

उसे भोगकर उसे खुश करना ही मर्दो का काम है अब बताओ क्या कहू तुमसे भी कैसे कहू इनको खुश करने के लिए?! 

मम्मी की चुदास की आग मे भडक उठी थी वो पहले भी चार लंड एकसाथ खा चुकी इसबार तो एक कम ही था, 

तो मम्मी ने कहा – उसकी बेगम तुम्हे खुश कर सकती है तो तुम्हारी बेगम भी तुम्हारी खुशी के लिए तुम्हारे दोस्तो को खुश कर सकती है, वो भी मुझे भोग सकते है चाहे जितना!!! 

ये सुनकर आमिर मन ही मन खुश हो गया ओर उसका प्लान कामयाब हो गया था, 

आमिर ने मम्मी को किस करते हुए कहा – बेगम तुम तो सच मेरी असली बेगम हो आज से, 

तो मम्मी ने कहा – आजतक नकली ही समझ रहै थे 

तो आमिर ने कहा – रेखा बेगम बेगम होती असली नकली नही सच्ची वो होती है जो शोहर के लिए कुछ भी करने को तैयार हो समझी… 

तो मम्मी ने कहा – चलो आज से तुम्हारी सच्ची बेगम तो बनी 

आमिर ने मम्मी को कल सुबह जल्दी आने को कहा तो मम्मी ने आमिर से कहा – आमिर एक काम करना यार अपने दोस्तो को कहना अपने शरीर के नीचे ओर काखो के बाल साफ कर ले, बाकी मै उन्हे निराश नही करूगी! 

ये कहकर मम्मी घर आ गयी ओर शाम को मम्मी ब्यूटी पार्लर जाकर आई ब्रो ओर फेशियल करवाकर आई घर आकर रेजर से अपने बालो को साफ कीया ओर कल के लिए वो पूरी तरह से तैयार हो गयी। मगर एक समस्या थी जिसके बारे मे मम्मी सोचने लगी वो थी समय की क्या करे तभी मम्मी को एक बहाना सुझ गया ओर मम्मी ने सबको खाना खिलाया ओर दूध देने के बाद पापा के पास दूध लेकर गयी ओर बात करने लगी। पापा अपने काम मे बिजी थे। 

तो मम्मी ने बात करते हुए कहा – सुनो जी कल से टोक फाटक पर एक कथा होने वाली है, मोहल्ले की ओरते साथ चलने को कह रही है अगर आप सुबह खाना ले जाए तो मै कथा सुनने जा सकती हू, 

ओर शशी के कॉलेज से आने से पहले ही लोट आया करूगी 7 दिन की बात है! 

तो पापा ने कहा – ठीक है 

मम्मी का प्लान कामयाब हो गया ओर वो खुश होकर सो गयी सुबह  9  बजे तक मम्मी ने खाना बना लिया ओर पापा को खाना साथ मे ही दे दिया मेरा टिफिन भी डाल दिया ओर शशी को नाश्ता भी करवा दिया। अब मम्मी नहाने चली गयी ओर दस मिनट के बाद मम्मी नहाकर निकली ओर आज मम्मी ने काले रंग की साडी पहनी गुलाबी रंग की लिपस्टिक लगाई ओर चोटी बनाकर लंबी सी मांग भरकर मम्मी होट मोम बन गयी ओर चुदाई के लिए तैयार होकर मम्मी चुदने के लिए घर से निकल पडी। 

मम्मी आज दस बजे से 15 मिनट पहले ही आमिर के घर पहुंच गयी ओर दरवाजा खुला ही मिला मम्मी बिना झिझक के ही अंदर घुसकर दरवाजा लोक कर के उपर चली गयी कमरे मे। आमिर सहित तीन जने थे कमरे का दरवाजा खुला ही था तो मम्मी कमरे मे घुस गयी ओर आमिर के दोनो दोस्तो को गोर से देखने लगी। 

आमिर के दोस्त भी मम्मी की खुबसूरती पर फिदा हो चुके थे वो घुरकर मम्मी को देखे जा रहे थे तभी मम्मी ने सबको सलाम कीया तो सबने मम्मी को सलाम कर दिया, 

अब मम्मी ने आमिर से कहा – अपने दोस्तो का परिचय तो करवाओ आमिर 

तो आमिर ने कहा – ये है मेरे दोस्त नावेद जो बंगाल मे रहते है, यूपी से ही है, फिर ये असलम जो यूपी के है ओर यूपी मे ही रहते है। 

आमिर ने कहा – ये है हमारी बेगम रेखा 

तो सबसे कहा – भाभीजान आप तो बहुत खुबसूरत है बिलकुल चाद की तरह 

तो मम्मी शर्मा गयी आमिर ने कहा – मेरी बेगम आज से आपकी सेवा मे हाजिर है, आप चाहे जितना भोगे इनको आपको पूरा सुख देगी मेरी बेगम, 

तो असलम ने कहा – बेगम ने साडी क्यो पहन रखी है 

तो आमिर ने कहा – ये उन्हें पसंद है मगर आपकी सेवा करने आई है, तो काली साडी पहनकर आई है इसलिए, 

तो असलम ने कहा – ये तो बहुत अच्छी बात है तुम्हारी बेगम तो सच मे कयामत लग रही है आज तो 

आमिर ने कहा – असलम आज नही ये कयामत ही है जन्म से खुदा ने इनको खुद ही तरासा है हीरा है ये, 

मम्मी अभी खडी ही थी असलम लगभग आमिर जैसी कद काठी ओर लंबाई का था, तो नावेद 6.2 का था, मम्मी की चुत की चुदास भडक गयी, दोनो को देखकर तीनो बिलकुल गोरे रंग के ओर भरे शरीर के मर्द थे। 

तभी आमिर ने मम्मी को पास आने को कहा तो मम्मी आमिर के करीब आ गयी, आमिर ने मम्मी को पकडकर अपनी गोदी मे ले लिया, ओर चुमने लगा, तभी नावेद ने मम्मी के दूध को पकड लिया ओर दबाने लगा। आमिर ने मम्मी को खडा कर दिया ओर उनके कपडे खोलने लगा। असलम ओर नावेद की नजरे मम्मी के बदन पर ही टिकी थी आमिर ने मम्मी के ब्लाउज को खोला ओर उनकी ब्रा को खोलकर उनके दूध आजाद कर दिये। 

तो दोनो की आखे फटी रह गयी 40 साइज की खडी चुचियो को देखकर ओर उसपर गुलाबी निपल देखकर दोनो अपने होठो पर जीभ घुमाने लगे तभी आमिर ने पेटीकोट का नाडा खोल दिया जिससे मम्मी की साडी नीचे गिर गयी। ओर मम्मी की पेटी खोलकर आमिर ने मम्मी को नंगा कर दिया ओर आमिर ने मम्मी के कपडे उठाकर सोफै पर डाल दिये आमिर मम्मी के पास आकर उनको कीस करने लगा। दोनो एक दूसरे मे खो गये ओर जोर से कीस करने लगे तभी नावेद ओर असलम के लंड भी खडे होने लगे मम्मी के बदन को देखकर, 

असलम ने कहा – ये तो कोई अप्सरा उतर आई है नावेद भाई! 

तो नावेद ने कहा – जन्नत मे ऐसी ही हुरे मिलेगी हमे ये अप्सरा नही हुर है कोई 

ये सुनकर मम्मी ने हंसकर आख मार दी उनकी तरफ!! 

तभी नावेद ओर असलम नीचे आ गये ओर असलम मम्मी के पिछे चिपक गया असलम का मूसल लंड मम्मी की गांड मे चुभने लगा। आमिर अब नीचे बैठकर मम्मी की चुत को चाटने लगा। मम्मी ने नावेद ओर असलम को बराबर खडा कर लिया ओर उनकी लुगी मे हाथ डाल डाल दिया उन दोनो ने कच्छा नही पहन रखा था। 

अब मम्मी के दोनो हाथो मे दो मुसल से लंड थे एक 6 इच का तो दूसरा 7 इच का मम्मी लंडो को जोर से पकडकर हिलाने लगी तभी पांच मिनट के बाद मम्मी आमिर के मुह मे झडने लगी। आमिर चुत का रस चाटकर खडा हुआ तो मम्मी अब घुटनो के बल बैठकर आमिर के लंड को चुसने लगी ओर नावेद असलम के लंड को हिलाने लगी। 

पांच मिनट बाद मम्मी ने नावेद का लंड मुह मे भर लिया ओर चुसने लगी आमिर ओर असलम के लंड मम्मी के हाथो मे थे सभी की मस्ती से आखे बंद हो गयी थी तभी मम्मी ने असलम को आगे आने को कहा। असलम का 7 इच का विशालकाय लंड मम्मी के मुह के आगे था मम्मी ने असलम के लंड के सुपारे को चाटकर साफ किया ओर उसे मुह मे भर लिया ओर पुरा अंदर तक लेने की कोशिश करने लगी।

एक मिनट बाद मम्मी ने असलम के पूरे लंड को निगल ही लिया जिससे असलम की आह निकलने लगी 15 मिनट तक लंड चुसाई का दोर चला जिससे मम्मी के जबडे दुखने लगा। तो मम्मी खडी हो गयी, 

ओर आमिर को कहा – बेगम की प्यास मिटा तो अब 

ये सुनते ही आमिर ने कहा – क्यो नही बेगम 

ओर बेड पर लेट गया मम्मी भी बैड पर चढ़कर चुत मे आमिर का लंड लेकर आमिर पर लेट गयी मम्मी के लेटते ही आमिर ने नावेद को पिछे से चढने का कह दिया। नावेद ने अपने लंड पर थोडा सा थूक लगाया ओर मम्मी की गांड के भूरे छेद पर अपना लंड टिका दिया मम्मी अब गांड मे लंड जाने का इंतजार कर रही थी की तभी नावेद ने एक ही झटके मे अपना लंड गांड मे ठोक दिया। जिससे मम्मी की चीख निकल गयी, 

ओर हाय हाय आ आ अम्म अहह करने लगी! 

तभी आमिर गांड उठाकर चुत मे लंड पेलने लगा तो उधर नावेद भी गांड मे लंड अंदर बाहर करने लगा। मम्मी मस्ती मे आकर चुदवाने लगी ओर जोर से चिल्लाह कर के दोनो को उत्तेजित करने लगी। असलम सोफै पर बैठा अपना लंड हिलाकर अपनी बारी का इंतजार करने लगा। इधर मम्मी की गांड ओर चुत को दोनो मिलकर फाड रहे थे। मम्मी भी गांड उठाकर दोनो के लंड पूरे खा रही थी आमिर कीस करते हुए मम्मी की चुचियो को भी दबाने लगा बीच बीच मे, इससे मम्मी की कामुक आहै! कमरे मे गुजने लगी। 

दोनों बिलकुल मुस्टंडे थे और मम्मी को पिछली Antarvasna Sex Story से भी जबरदस्त चुदाई  कर रहे थे। दस मिनट की चुदाई के बाद मम्मी झडने को हुई तो उन्होने आमिर के लंड को अपनी चुत से जकड लिया जोर से, आमिर भी समझ गया मम्मी झडने वाली है तो उसने लंड के झटको को तेज कर दिया ओर तभी मम्मी भरभरा के आमिर के लंड पर झड़ने लगी। मम्मी के झडते ही आमिर ने नावेद को नीचे आने को कहा ओर असलम को मम्मी के पिछे आने को कहा इस तरह जगह बदलने के बाद मम्मी नावेद के लंड पर बैठ गयी ओर चुत गीली होने से नावेद का लंड एक झटके मे ही मम्मी चुत मे निगल गयी। 

ओर नावेद के उपर सो गयी अब असलम घुटनो के बल मम्मी के पिछे बैठा था तो मम्मी ने गांड हिलाकर असलम को गांड पर चढने का इशारा कीया इशारा मिलते ही असलम गांड को चुमने लगा ओर थप्पड मारने लगा। असलम ने मम्मी की गांड को फैलाकर अपने लंड के लाल सुपारे को भूरे छेद पर टिका दिया ओर धीरे धीरे लंड को गांड मे फसा दिया। आधा लंड फटने के बाद असलम ने अपना सुखा लंड मम्मी की गांड मे दूसरे झटके मे पूरा अंदर उतार दिया। 

मम्मी की भी इससे चीख निकल गयी ओर नावेद ने हंसकर कहा लगता है पूरा घुसैठ दिया असलम भाई ने, 

तभी मम्मी ने कहा – ओर बचा है तो वो भी डाल दो 

तो नावेद ने कहा – ये दोनो लंड गांड मे डालेंगे तो फट जाएगी ना ओर हंसने लगा 

मम्मी ने गांड हिलाकर असलम को चुदाई शुरू करने को कहा, तो नावेद ओर असलम मिलकर मम्मी को पेलने लगे चुत गीली होने के कारण, 

मम्मी की चुत से अब फच! फच! की आवजे आने लगी थी 

मम्मी के मुह से – सी सी आह आह आ आ अम्म आराम से… 

की आवाजे आने लगी नावेद 40  की चुचियो को पकडकर जोर से दबा रहा था ओर मम्मी ने नावेद के होठो पर अपने होठ लगाकर उसे चुसने लगी थी। इसबार की चुदाई 20 मिनट तक मम्मी झैल गयी मगर 20 मिनट बाद उनका बदन अकडने लगा ओर वो इसबार नावेद के लंड पर झड गयी। तो नावेद ने असलम को नीचे आने को कहा ओर खुद जाकर सोफै पर बैठ गया ओर आमिर को गांड फाडने के लिए भेज दिया। 

असलम के लंबे चोडे शरीर के उपर खडी होकर मम्मी अब उसके लंड को पकडकर अपनी चुत पर सेट कर के उसको अपनी चुत मे लेने लगी। चुत गीली होने से चुत की चिकनाई बहुत बढ गयी थी जिससे मम्मी को असलम का मूसल लंड लेने मे ज्यादा दिक्कत नही हुई ओर लंड पूरा चुत मे लेकर असलम के बदन पर लेट गयी। असलम की बोडी ढाढी ओर भरे शरीर पर मम्मी लट्टु हो गयी थी। 

मम्मी असलम की ढाढी मे हाथ फेरकर उसे चुमने लगी तो असलम ने अपने हाथ कमर मे डालकर उसे कसकर पकड लिया तभी आमिर ने गांड पर थप्पड मारकर गांड को चाटने लगा। आमिर ने मम्मी के गांड को मुह मे भर लिया ओर उनकी गांड को अपने दांतो से जोर लगा कर काट दिया जिससे मम्मी की चीख निकल गयी ओर मम्मी आमिर के मुह से अपनी गांड छुडाने की नाकाम कोशिश करने लगी। मगर असलम की मजबूत पकड के चलते वो हिल ही नही पाई ओर चीखकर रह गयी, 

तो मम्मी ने कहा – आमिर निशानी की क्या जरूरत है मै तो तुम्हारी ही हू 

ये सुनकर आमिर ने कहा – तभी तो निशानी करता हू जान की तुम सिर्फ मेरी हो 

ओर गांड को फैलाकर मम्मी की गांड के भूरे छेद को चाटने लगा, गांड को गीला करके आमिर ने एक झटके मे लंड को गांड मे ठोक दिया ओर मम्मी ने गांड हिलाकर आमिर को गांड फाडने का कहने लगी। तभी दोनो दोस्तो ने मम्मी की गांड ओर चुत का जमकर बाजा बजाया ओर 20 मिनट मम्मी की चीखे इसका सबूत देती रही कमरे मे मम्मी की चीखे गुज रही थी ओर उसके साथ लंड के झटको से आने वाली आवाजे अब तीनो अपने चरम पर पहुंच चुके थे। 

सभी के बदन अब अकडने लगे तो मम्मी ने आमिर को खडा होने को कहा ओर बैड से नीचे उतर कर घुटनो के बल बैठ गयी नावेद भी अपना लंड हिलाकर चरम पर पहुंच गया था तो उसने सबसे पहले मम्मी के मुह मे लंड डालकर मम्मी के सिर को पकडकर उसे चोदने लगा। नावेद ने गले मे लंड फंसाकर अपना गर्म गर्म वीर्य मम्मी के मुह मे भर दिया मम्मी सारा माल पीकर नावेद के लंड को चाटकर साफ करने लगी। 

तो आमिर नीचे उतर आया ओर मम्मी के फ्री होते ही वो मम्मी के मुह को चोदने लगा आमिर एक मिनट मे झड गया तो मम्मी ने आमिर के लंड को चाटकर साफ कर दिया ओर अब असलम भी नीचे आ गया असलम ने भी मम्मी के मुह मै अपना मुसल लंड फसा दिया। ओर जब झडने लगा तो गले के अंदर पूरा फंसाकर मम्मी के सर को पकड लिया असलम के लंड ने इतना माल निकाला की मम्मी सोच ही नही सकती थी। 

मम्मी के गले मे लंड फसा होने के कारण असलम का वीर्य बाहर निकलकर आ गया मुह से ओर मम्मी की चुचियो पर गिरने लगा टपककर असलम के लंड बाहर निकालते ही मम्मी ने जोर से सास ली पहले ओर फिर मुह मे पडा वीर्य निगल गयी पूरा। चुचियो पर लगा वीर्य अपनी उगलिओ पर लगाकर उसे भी चाटकर साफ कर दिया एक घंटे से ज्यादा चली चुदाई से मम्मी को बडा सुकुन मिला।

आज चारो जने पसीने भर चुके थे मगर सब अपने चरम पर पहुंचकर बहुत खुश हुए मम्मी को आमिर ने उठाया ओर बैड पर लेटा दिया ओर खुद भी मम्मी से चिपककर लेट गया नावेद ओर असलम सोफे पर बैठकर सुस्ता रहै थे, चुदाई का एक दोर पूरा होने के बाद सब खामोश थे, 

तभी आमिर ने बात छेड़ते हुए कहा – कैसी लगी मेरी बेगम 

ये सुनते ही असलम ओर नावेद  एकसाथ ही बोल पडे – बहुत खूब!!! बेगम मिले तो ऐसी ही मिले नही तो ना मिले 

तभी नावेद ने कहा – आमिर भाई आपकी बेगम से कुछ पुछ ले बुरा तो नही लगेगा 

ये सुनकर मम्मी ने कहा – आमिर की बेगम को आमिर के दोस्तो की बात का बुरा भी लगेगा क्या 

ये सुनकर नावेद खुश हो गया ओर कहने लगा – सच सच बताओ आज तक कितने लोगो से चुदाई का मजा ले चुकी हो?!! 

ये सुनकर मम्मी ने कहा – एक शोहर के सामने उसकी बेगम से ऐसे सवाल नही करते नावेद जी! 

तो नावेद ने कहा – बुरा लगा??? 

तो मम्मी ने कहा – बुरा आमिर को लगेगा उसकी बेगम ने कहा कहा अय्याशी की है ये जानकर, खैर नावेद तुम ही बताओ तुमने तो अभी सबकुछ कीया है तुम्हे क्या लगता है कितने लोगो से मजा ले चुकी हू, ओर कैसे लगता है, 

नावेद अब फंस गया, क्या कहे, 

नावेद ने कहा – ओर तो पता नही मगर आप मै चुदास बहुत है ये उसने बिलकुल सही बात कही 

तो मम्मी ने कहा – ओर बताओ 

तो कहने लगा – आपके बच्चे कितने है ओर उनकी ओर आपकी उम्र क्या है फिर बताऊंगा बाकी 

तो मम्मी ने कहा – ये भी तुम ही बता दो पता तो लगे तुम्हे कितना पता लगता है ओर हंस दी 

अब नावेद क्या कहे, तभी असलम ने कहा – आपके जिस्म को देखकर ना उम्र पता लगती है ना ही ये पता लगता है की आपके बच्चे भी है अगर है भी तो आपके जिस्म को भोगा नही कीसी ने अच्छे से, 

तभी नावेद बोल उठा – बिलकुल असलम भाई, मै तो कह ही रहा हू, ये अप्सरा नही हुर है कोई जन्नत की, ऐसी बाला की खूबसूरत औरत तो मेने सिर्फ Hindi Sex Stories की किताबो में पढ़ी है। आमिर ओर मम्मी एक दूसरे को देखकर मुस्कारे रहै थे बस आमिर ने कहा – इनके दो बच्चे है, मगर उम्र तो मैने भी नही पूछी नावेद आप ही बता दो, 

तो नावेद ने कहा – 30 से ज्यादा नही होगी, कम ही होगी, असलम ने कहा – नावेद से सहमत हू मै आपकी बेगम 30 की ही है अभी तभी इनका अंग अंग बेमिसाल है अभी दो बच्चो के बाद भी!!! 

ये सुनकर मम्मी शर्मा गयी!!!

पिछले भाग – मारा चौथा गियर और गांड की सील खुल गई 🍑. 

कहानी अभी जारी है, पढ़ते रहिये मेरी माँ की अन्तर्वासना की आत्म कथा को, और मिलते है अगले भाग में।

Writer – Rohit Kumar, [email protected]

ये भाग इस कहानी का 26 भाग है और ये माँ की अन्तर्वासना नाम की सीरीज  आत्मकथा है जोकि बिलकुल सुच है। पिछले सभी भाग भी जरूर पढ़े ऐसा कुछ आजतक सुना होगा। 🧡इसे पढ़ें – माँ की अन्तर्वासना – एक सेक्सी आत्मकथा🔥💜 (Part – 1)

आपको कहानी कैसी लगी?
+1
30k
+1
26k
+1
10k
+1
22k
+1
101
+1
1k

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *