/ / मेरी बीवी वर्जिन नहीं थी
Couple Sex Story Desi Sex Story First Time Sex Story Hindi Sex Story Porn Story Romantic Sex Story XXX Story

मेरी बीवी वर्जिन नहीं थी

हमारी नई नई शादी हुई थी, मेँ वर्जिन था लेकिन सुहागरात वाले दिन मुझे पता चला मेरी बीवी वर्जिन नहीं थी, मेरी बीबी तो पहले से चुदी हुई है। मुझे ऐसा लगा की मेरी ज़िन्दगी बर्बाद हो गई, इस बात ने मुझे बहुत परेशां कर दिया था!

सभी पाठको को मेरा प्यार भरा नमस्कार सर्दी का मौसम शुरू हो चुका है ओर नववाहित जोड़ो की प्रेम भरी रातो के साथ कुवारे ओर कुछ शादीशुदा ठरकी पुरूषो के लिए ये कहानी है जिसे मैने अपने एक पाठक के अनुरोध पर लिखा है।

ये Wife Sex Story मेरी चुदासी चालु बीबी की है, मेरा नाम शरद है ओर मेरी बीबी का नाम बिनीता मै भावनगर मे नोकरी करता हू ओर परिवार भावनगर के पास एक गांव गुजरात मे रहने वाला युवक हू अभी मेरी ओर मेरी बीबी की उम्र 32 है।

5 साल पहले मेरे घरवालो ने मेरा रिश्ता तय कीया जब मैने बिनीता को पहली बार देखा आपको मालूम ही है जैसे हर लडके ओर लड़की को अपने शादी को लेकर कुछ अरमान होते है, मेरे भी थे, मै बहुत खुश था। बिनीता 5.3 हाइट की गोरी रंग की लड़की जिसके लंबे बाल काली आंखे ओर 32-30-34 का परफेक्ट साइज की लड़की से मेरी शादी होने जा रही थी।

मै शादी को लेकर बहुत खुश था ओर रिश्ते के महीने बाद हमारी शादी हुई ओर सुहागरात की रात मेरी पत्नी मेरे सामने थी मेरे सपने आज पूरे होने जा रहे थे मैने अपनी सुहागरात पर बिनीता को सोने की उगुठी दी ओर उसके घुघट को उठाकर उसके चेहरे पर कीस कीया देखते ही, देखते मै उससे लिपट गया ओर पागलो की तरह उसे चुमने लगा।

मगर वो झिझक रही थी मैने सोचा उसका पहली बार है ओर लड़कीया शर्माती भी है तो मै उसके बदन से खेलता रहा, धीरे धीरे मैने उसके कपडे उतारने शुरू कर दिये। उसने अपने गहने खोलने शुरू कीये तो मेने शेरवानी का कुर्ता ओर पजामा खोल दिया अब मै कच्छे बनियान मै था।

तो वो लहंगा चोली मै गहने उतारते ही मै उसपर कुते की तरह झपट पडा ओर उसकी चोली को खोलने लगा ओर चोली के उपर से उसके बोबो को दबाने लगा चोली के नीचे उसने लाल रंग की फैन्सी ब्रा पहन रखी थी ओर मैने उसकी ब्रा को अपने हाथो मे भर लिया।

ओर एकबार फिर जोर से दबा दिया अब उसके मुह से हल्की सी चीख निकल पडी मैने उसकी ब्रा को खोलकर उसकी चुचियो को अपने मुह मे भर लिया ओर चुसने लगा

अब उसकी चुदास भी भडक गयी ओर उसने पहली बार अपने हाथो को खोला ओर मेरे को पकडकर अपनी चुचियो पर दबा दिया अब मै भी उसकी गोरी गोरी चुचियो की भूरी निपल को दांतो से काटने लगा ओर उसके होठो को अपने होठो से मिला दिया उसकी चुचिया मेरी हाथो मे थी।

बिनीता भी अब पूरे जोश मे आ गयी थी ओर खुलकर मेरा साथ दे रही थी तभी मैने उसके लंहगे के नाडे को खीच दिया ओर उसका लहंगा खिसका दिया अब बिनीता मेरे सामने सिर्फ पेंटी मे ही थी।

मैने बिनीता की पेंटी पर हाथ रखा तो वो उसके कामरस से गीली मिली मैने अब उसकी पेन्टी को भी खोलकर बिनीता को नंगा कर दिया ओर उसकी मखमली जाघो के बीच उसकी लाल रंग की चिकनी चुत को देखकर मेरा होश खो गया तभी मैने अपने कच्छा ओर बनियान खोल दिया मेरा छोटा सा लंड तनकर तैयार था अपनी बीबी की चुत को चोदने के लिए मेरा ये पहला ही सैक्स था तो मै भी कुछ ज्यादा ही उत्साहित था।

मैने सैक्स विडियो देखकर सैक्स करने के तरीके देख रहे थे तो मैने अपने 4.5  इच के लंड पर तेल लगाया ओर बिनीता की टांगो को अपने कंधे पर उठा लिया ओर फिर अपने लंड को चुत पर लगाकर पूरी ताकत से झटका दिया तो मेरा दिमाग खराब हो गया मेरा लंड बिना कीसी रूकावट के बिनीता की चुत मे समा गया ओर मुझे समझने मे बिलकुल भी देर नही लगी की मेरी बीबी तो पहले से चुदी हुई है

मेरा सारा मूड खराब हो चुका था ओर फिर भी बेमन से मै उसे चोदने लगा। बिनीता झूठ मै ही दर्द का नाटक कर रही थी ओर मेरे सामने रोने का नाटक करने लगी। इस कारण मेरा रसख्लन पांच मिनट मै ही हो गया ओर फिर मै कपडे पहनकर सो गया, 

ओर सोचने लगा – मेरी तो जिंदगी बर्बाद हो गयी है, माधरचोद!!! 

अब मै कर भी क्या सकता था महीने भर से बिनीता से मै घंटो बात कर रहा था ओर अब मे उससे कुछ भी नही बोल रहा था। 

अगले दिन वो भी ये समझ गयी चुकी थी।

मेरा दिमाग बिलकुल भी काम नही कर रहा था, मै क्या करू अब रात को मैने खाना खाया ओर सो गया। वो भी मेरे पास आकर चुपचाप लेट गयी, आज की रात भी बिना सोये निकल गयी सोचते सोचते दो दिन बाद, 

मैने घरवालो से कहा – मुझे अब नोकरी पर जाना है तो मै भावनगर जा रहा हू।

घरवालो ने कहा – ठीक है दुल्हन को भी ले जाओ, 

तो मैने कहा – कुछ दिनो बाद ले जाऊगा अभी एक कमरे मे कहा रहेगे, 

मेरा वहा दम घुटने लगा था, दो दिनो मे ही मै उसी दिन शाम को भावनगर आ गया ओर कमरे के आसपास रहने वाले दोस्त पार्टी लेने पहुंच गये। मै उनके लिए शराब ले आया ओर फिर सब दोस्त पार्टी कर के चले गये मैने कीसी को खबर नही होने दी मेरे साथ धोखा हुआ है।

अगले दिन, 

मै अपने काम पर गया तो वहा भी मन नही लगा ओर दिमाग खराब रहने लगा रात को मैने कुछ मूवी देखी ओर antarvasna sex story पढने लगा। तो मैने सोचा – अब जो है वही रहेगा बदला तो नही जा सकता है।

इसलिए मैने बिनीता को अपने साथ लाने का फैसला कीया ताकी आगे कुछ ठीक हो जाए ये सोचकर मैने एक मकान किराये पर ले लिया जिसमे दो कमरे ओर रसोई थी। अब मै बिनीता को अपने गांव से भावनगर ले आये, पहले दिन हम दोनो मे कोई बातचीत नही हुई ओर रात को भी हम जल्दी सो गये। 

अगले दिन रविवार की छुट्टी थी, तो बिनीता ने कुछ घर का समान लाने को कहा तो मै समान ले लाया ओर हमारी बातचीत शुरू हो गयी। 

बिनीता ने कहा – उसकी गलती हो गयी, उसे माफ कर दो सारी गलती उसके घरवालो की है!!

उसने आगे बोला – मै आपको सच बताना चाहती थी मेरा एक ब्यायफ्रेड है, जिससे मेरे जिस्मानी रिश्ते हो चुके थे। मै उससे शादी करना चाहती थी मगर वो मुस्लिम था इसलिए घरवालो ने मेरी मर्जी के खिलाफ आपके हाथ शादी कर दी। मै क्या कर सकती थी? 

ये बोलकर वो चुप हो गयी ओर फिर वो रोने लगी, तो मेरा मन भी पिघल गया ओर मैने खडे होकर उसे गले लगा लिया। हम दोनो काफी देर एक दूसरे से चिपककर खडे रहे, जिससे मेरा लंड खडा हो गया ओर मेने बिनीता के होठो से अपने होठ चिपका दिये। 

आज बिनीता ने भी मुझे पूरी उम्मीद से गले लगाकर मेरा हौसला बढ़ाया, तो मुझे भी अच्छा लगा। मैने भी बिनीता को खुश करने के लिए गले लगाकर उसको चुमने लगा। हम दोनो एक दूसरे के होठ खाने लगे पांच मिनट किस करने के बाद मैने आगन मै ही बिनीता की साडी खोल दी ओर अपने कपडे उतार दिये। 

हम दोनो अधनंगे होकर फिर से लिपट गये ओर पागलो की तरह चुमने लगे। अब मेने बिनीता का ब्लाउज खोल दिया ओर उसकी चुचियो को दबाने लगा, 

तो वो भी सिसकारिया भरने लगी – आह आह आह 

आज बिनीता खुलकर मेरा साथ दे रही थी, तो मे भी मन से बिनीता को अपनाकर उसे प्यार कर रहा था। कुछ देर बाद हमने अपने बचे हुए कपडे भी खोलकर फेक दिये। मैने घुटनो के बल बैठकर बिनीता की नाभी को चुमा ओर उसकी हल्की हल्की झांटो वाली चुत को चुमने लगा। बिनीता की चुत से बह रहे रस ने मुझे मदहोश कर दिया ओर मैने अपनी जीभ को चुत पर लगाया, 

तो बिनीता – सी सी आ अहह अम्म सी 

करने लगी, ओर मेरे सिर को अपनी चुत पर दबाने लगी। बिनीता मेरी जीभ के हमले को ज्यादा देर नही झेल पाई ओर उसने अपना नमकीन रस मेरे मुह मे ही उडेल दिया। जिसे मै चाट गया अब बिनीता का जोश थोडा कम हुआ तो मैने उसे कमरे मे चलने को कहा ओर बेड पर हमदोनो लेट गये। 

मेने बिनीता को लंड चुसने का इशारा कीया तो वो तुरंत ही पैरो के बीच बैठकर मेरे लंड को मुह मे लेकर चुसने लगी। लंड चुसाई का मेरा ये पहला अनुभव था मै लेटे लेटे सातवे आसमान की सैर कर रहा था सच मे लंड चुसाई का एक अलग ही मजा है। 

पांच मिनट लंड चुसने के बाद बिनीता को कहा – अब आ जाओ… वर्ना मुह मे ही निकल जाएगा… 

तो बिनीता ने कहा – कोई बात नही… आपने रस पी लिया तो हम भी आपका रस पी लेगे 

ओर एकबार फिर बिनीता अपने नर्म नर्म होठो से मेरे काले लंड के सुपारे को मुह मे भरकर चुसने लगी। उसकी जबरदस्त चुसाई के आगे मेरे लंड की हिम्मत जवाब दे गयी ओर मे कुछ देर बाद मे बिनीता के मुह मे झडने लगा। 

Biwi Ko Choda

बिनीता ने सारा माल पीकर मेरा लंड चाटकर साफ कीया ओर मेरे उपर ही लेट गयी। मेने उसकी कमर पर हाथ डालकर उसे अपने बदन से चिपका लिया। दस मिनट के बाद बिनीता मुझे किस करने लगी, तो मैने भी बिनीता को किस कीया ओर उसके गाल कान को चुसने लगा। दस मिनट मे ही हमारा फिर से सैक्स का दोर शुरू हुआ ओर अब बिनीता ने मेरे लंड को पकडकर अपनी चुत पर सेट कर के उसके उपर बैठ गयी ओर बिना कीसी शिकन के बिनीता की चुत मे मेरा लंड समा गया, वो पहली बार मेने अपनी नई बीवी को चोदा, ओर फिर बिनीता जोर जोर मेरे लंड पर उछलने लगी। 

उसकी पतली कमर गोरी गोरी चुचिया, क्या कमाल की लग रही थी बिनीता, पांच मिनट तक लंड पर कूदती रही फिर बिनीता मेरे पास लेट गयी तो मैने बिनीता के पेरो को फैलाकर उसकी गीली चुत मे अपना लंड पेल दिया। ओर जोर से झटके मारने लगा! 

बिनीता भी झटको के प्रतिउत्तर मे – आह आह उह्ह उह्ह्ह हाय अहह आ आ 

की सिसरकारिया भर रही थी जिससे मुझे बहुत अच्छा लग रहा कमरे का पूरा माहोल बडा कामुक हो गया था।

बिनीता भी गांड उठाकर चुद रही थी तभी मेने बिनीता को कुतिया बनने को कहा तो वो झट से कुतिया बन गयी ओर मेने उसकी चुत मे लंड उतार दिया ओर घपघप की आवाजो से एकबार फिर चुदाई का दोर शुरू हुआ।  बिनीता की गोरी गोरी गांड पर थप्पड लगाकर उसकी गांड को लाल कर दिया। 

तभी मैने बिनीता की गांड के लाल छेद मे एक उगली फसा दी जिससे बिनीता चहक उठी तो मैने एक हाथ से उसकी कमर को पकड लिया बिनीता की गांड की सील भी खुली हुई थी। मगर वो चुत से ठीक थी कुछ मेरा लंड भी छोटा था इसलिए उसकी चुत के अनुसार मुझे मजा आ रहा था। अब मेने अपने गीली लंड को बाहर निकाला ओर उसकी गांड के छेद पर लगाकर रगड़ने लगा। तो बिनीता की सित्कार निकलने लगी तभी मैने अपने लंड का सुपारा बिनीता की गांड मे घुसा दिया ओर बिनीता कसमसाने लगी। 

तो मुझे कुछ अच्छा लगा चलो चुत की जगह भोसडा मिला, है हां हां हां हां हां, तो मिला मगर गांड का गोदाम तो नही मिला ओर मेने फिर तीन झटको मे अपना 4.5 इची लंड उसकी गांड मे पूरा उतार दिया। बिनीता ने अपनी मुठी मे चद्दर को दबा लिया जिससे उसके दर्द का मुझे अहसास हुआ। मगर मेने बिना रहम कीये बिनीता की गांड फाड चुदाई शुरू कर दी थी। 

तीन चार मिनट के बाद मेरा लंड बिनीता की गांड मे आराम से अंदर बाहर होने लगा तो वो भी गांड मटकाकर लंड खाने लगी दस मिनट की गांड फाड चुदाई के बाद मेने अपना रस बिनीता की गांड मे छोड दिया। तो बिनीता बेड पर पसर गयी ओर मै उसके उपर ही पसर गया, पांच मिनट के बाद मेने उसकी गांड मे फंसा मुरझाया लंड बाहर निकाला तो उसी के साथ उसकी गांड से मेरा कामरस बाहर निकलने लगा।

खैर इस तरह शादी के दस दिन बाद मेरी बीबी के साथ मेरा पहला अच्छा सैक्स हुआ। बिनीता भी आज खुश थी ओर मे भी।

लेकिन दोस्तो इसके बाद मेरी अगली सभी New Hinidi Sex Story मे कई उतार चढाव आएगे। तो मै आपके साथ अगले दो भागो मे साझा करूगा। आप मुझे मेल कर सकते है ओर रोहित जी को भी जिन्होने मेरे कहने पर मेरी कहानी लिखी है।

कहानी भेजने वाले – Binita Solanki, [email protected]

आपको कहानी कैसी लगी?
+1
11.6k
+1
10.9k
+1
2.7k
+1
5.9k
+1
4
+1
898

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *