/ / रेल्वे रिटायरिंग रूम मे चूदाई – 2
Bhabhi Sex Story Couple Sex Story Desi Sex Story Family Sex Story Hindi Sex Story Porn Story Romantic Sex Story XXX Story

रेल्वे रिटायरिंग रूम मे चूदाई – 2

उसके तने हुये निप्पल साफ नजर आ रहे थेमुझे उसकि योनि कि हल्किसि मादक गंध आने लगिउसकि योनि पर पेंटी के उपर से हि किस किया वो थरथरा सि गई

अभि तक आपने रेल्वे रिटायरिंग रूम मे चूदाई – 1 मे पढा कि कैसे मीताली और मेरे बिच मौसम बना पर ऐन समय पर मिताली और मुझे रुकना पडा, और हमारे बसपन की चुदाई प्यास वही रुक गई, अब आगे

मैने उसि रात दस बजे मितालि के मोबाइल पर फोन किया उसने बताया वे लोग अभि हि पहुंचे है, रास्ते मे ढाबे मे खाना खाने रुक गये थेउसने पुछा ठाने कब आ रहे हो? मैंने कहा जब तुम कहोउसने बताया उसकि स्कुल सुबह 9 बजे से दोपहर 3 बजे तक रहति हैवो एकाध घंटा और लेट रह सकति हैयाने स्कुल वाले दिन सुबह 9 से 4 बजे तक हम कहि भि मजे कर सकते है

हमने अगले शुक्रवार का प्रोग्राम बनायाठाने मे कोई अच्छा सा होटेल लेकर मजा करने का ईरादा थामैने आपनी वाइफ से कह दिया था कि शुक्रवार मुझे कुछ ऑफिस के काम से ठाने जाना हैनासिक से सुबह 6 बजे एक ट्रेन चलति है जो 9।30 बजे ठाने पहुंचति है

ग़ुरुवार कि रात मुझे निंद हि नहीं आ रही थि, उसकी याद में Train Sex Story पढ़ रहा था और अपनी रेल्वे रिटायरिंग रूम में हुई कामुकता को याद कर रहा था। बार बार बस मितालि का हि खयाल आ रहा थामै बहोत गरम होता जा रहा थासुबह मेरि पत्नि ने मुझे उठाया और उसे देख मै अपना आपा खो बैठामेरि पत्नि भि बहोत खुबसुरत हैमैने अपने दोनो हाथो से उसके बालो को अपनि और खिंचा और अपने उपर ढेर कर लिया। 

उसके बदन पर मेरे हाथ चलने लगेवो भि गरम हो गई और एक गरम चुदाई शुरु हो गई। 7 मिनट कि चुदाई मे हि मेरि पत्नि ने दो बार अपना पानि छोड दियाऔर फिर मै भि अपना आपा खो बैठा और जोरदार पिचकारि से अपना पानि उसकि गर्म चूत मे भर दियाफिर वो मुझे जल्दि तैयार होने को कह कर चलि गईपत्नि कि लेने कि वजह से मेरि उत्तेजना भि थोडि कम हुई और अब मै मितालि से ज्यादा देर तक सम्भोग कर सकता था

मै 9:30 बजे ठाने पहुंचा और मुझे खयाल आया कि रेल्वे के रिटायरिंग रूम भि होते हैमैंने स्टेशन मास्टर से मुलाकात कि और एक वातानुकुलित डबल रूम ले लियामैंने मितालि से स्टेशन आने को कहा वो 10 मिनट मे स्टेशन पहुंच गईमितालि  को देखते हि मैने उसे अपनि बाहों मे भर लिया उसने कहा अरे छोडो सब देख रहे है ये सब रूम मे करनाउसे लेकर मै रूम मे आ गया

रूम का दरवाजा बंद करके मैंने उसे देखा, उसने गहरे निले रंग कि साडि और सफेद ब्लाउज पहन रखा था, जो उसकि स्कूल के टिचर्स कि उनिफ़ोर्म थिमैने आगे बढकर उसे बाहो मे भर लियापांच मिनट तक हम युन्हि लिपटे खडे रहेफिर उसने धिरे से मुझे अलग किया और अपना बेग लेकर वाशरूम मे चलि गई

10 मिनट बाद जब वो वापस आइ, तो जैसे कयामत आ गईउसने पिले कलर कि माईक्रो स्कर्ट और लाल कलर कि टिशर्ट पहनि हुई थिएक्दम सेक्स बोम्ब लग रहि थिये कपडे वो अपने बेग मे डालकर लाइ थिउसने अपने बालो को खोल लिया थास्कर्ट उसकि जांघो तक आ रहि थि, निचे उसकि सुडौल पिंड्लिया और करारे पैर नजर आ रहे थे। 

टिशर्ट उसकि नाभि के उपर थिउसकि लंबवत सेक्सि नाभि बडि कमसिन लग रहि थिउसके उपर उसके 36-ब के उरोज कयामत ढा रहे थे

मैने अपनि बाहे फैलाई और वो दौडकर मेरि बाहो मे समा गईहम लगभग 5 मिनिटो तक ऐसे हि खडे रहेमै उसके गर्दन को चुम रहा थामेरे दोनो हाथ उसकि पिठ, कमर और नितम्बो पर फिर रहे थेअब मै उसकि कानों कि लौ को अपने दांतो से चुभलाने लगा और वो कसमसाने लगिउसने अपना एक पैर उठा लिया और उपर से सि मुझमे समाने कि कोशिश करने लगिमैने अपने अधरो को उसके अधरो पर रख दियादोनो परस्पर चुम्बनो का आदान प्रदान करने लगेमैने अपनि जिभ उसके मूह मे डाल दि जिसे वो लोलिपॉप कि तरह चुसने लगिअगले पांच मिनट हम एक दउसरे कि जिभ चुस रहे थे

मैंने उसके नितम्बो को अपने दोनो हाथ से पकड कर उसे उठा लिया, उसने अपनि दोनो टांगो को मेरि कमर पर लपेट लिया और वैसे हि हम किस करते हुये बिस्तर कि तरफ बढने लगेमैने उसे धिरे से बिस्तर पड़़ लिटायालिटाने से उसकि स्कर्ट और उपर हो गई और मुझे उसकि कालि पेंटि कि हलकि सि झलक मिलने लगिमैने अपने हाथ उसके पिछे से निकाले और उसके बालो को सहलाने लगामै उसके माथे, गालो और गर्दन पर किस करने लगानिचे आते आते मैने टिशर्ट के उपर से हि उसके गोल मांसल उरोजो को भि किस किया, उसने ब्रा शायद बाथरूम मे हि उतार दि थि। 

उसके तने हुये निप्पल साफ नजर आ रहे थेमैने उपर से हि दोनो नीप्पलो को हल्के से किस किया और फिर अपनि जिभ उसके नाभि पर रख दिउसे जैसे करंट सा लगामै अपनि जिभ उसकि नाभि मे घुसाने लगाअब वो मेरे बालो को पकड कर खिंच रहि थि

अब मै नाभि से और निचे कि ओर किस करते हुये उतरने लगाजैसे हि मैने उसकि योनि पर पेंटी के उपर से हि किस किया वो थरथरा सि गईमुझे उसकि योनि कि हल्किसि मादक गंध आने लगिउसका काम्रस निकलने लगा थाअब मै उसकि गोरी मांसल जांघो को किस करता हुआ निचे कि ओर बढने लगामैने बारि बारि उसके दोनो पैरो को हर जगह चुमाएकदम चिकने पैर थेबालो का एक रोया भि नहि थामीताली पुरि तैयारि के साथ आइ थी

मैने महसुस किया कि वो धिरे धिरे गरम होति जा रहि हैमैंने उसका स्कर्ट उपर किया और निचे कालि पेंटि मे कैद हुस्न कि फांके नजर आने लगिवो शर्माकर अपनि स्कर्ट निचे करने लगिलेकिन मैने अपने हाथो से उसके हाथो को पकड लिया और अपने अधरो को उन फांको पर रख दियावो एकदम से तडफि। 

मै अपना मूह उसकी दरारों पार चलाने लगामैने महसुस किया कि उसकि पेंटि गिलि हो रहि हैकालि पेंटि होने के कारन धब्बा तो नजर नहि आ रहा था पर गिले होने का अहसास हो रहा थामैने पेंटि कि साइड से अपनि एक उंगलि अंदर डालि और उसकि योनि कि दरार पर घुमाने लगाअब मुझे रहकर नहि हो रहा था जल्द से जल्द मै उसके हुस्न के दिदार करना चाह रहा था

मैने अपने दोनो हाथो से उसकि पेंटि कि इलास्टिक पकडि और उसे निचे खिचने लगावो मेरा हाथ पकडने लगि, लेकिन आखिर जीत मेरि हुई और उसकि पेंटि उसके दोनो पैरो से होति हुई आझाद हो गईमैंने एक बार उसकि पेंटि को जोर से सूंघा अहाहा क्या  मादक सुगंध थिउसने अपने दोनो हाथो से अपने योनि को छुपा लियाये उसका पराये मर्द के साथ पहला अनूभव थाचुदवाने कि चाहत भि थी पर पराये मर्द से चुदवाने कि झीझक भि थि

मैंने उसके हाथो पर किस करना शुरु किया और धिरे धिरे उसके हाथो को सरकाता गयाअब उसका निर्वस्त्र हुस्न मेरे सामने थापुरि योनि एकदम सफाचट थिपाव रोटि कि तरह फुलि हुई जैसे छोटि बच्चियो कि होति हैउसमे से हल्कि हल्कि मादक सुगंध आ रहि थी

मैंने अपने अधरो से उसकी चोटा को चुम लिया और अपनि जिभ उसमे घुसा दिमै अपनि जिभ लम्बवत उसके पुरि योनि पर चला रहा थाउसके मूँह से सिसकारिया निकले लगिवो जोर जोर से आहविमलआह कि आवाज निकालकर मेरा नाम लेने लगिवो मेरे बालो को पकड कर मेरा सर अपनि योनि मे ढकलने लगि। 

मैने अपने दोनो हथो से उसकि योनि पंखुडियो को खोला और उसके मजे के दाने पर अपनि जिभ घुमाने लगावो अकडने लगिअपने चुतड उठा कर मेरे मूह मे घुसाने लगिउसने एक झुरझुरि सि लि और मेरे सर को जोर से अपनि योनि मे भिंच लियामै समझ गया ये अब बस झडने वालि हैमैंने अपनि स्पिड बढा दि। 30 सेकंड मे हि वो झडने लगिउसकि योनि से सफेद पानि बाहर आने लगामैने थोडा चखाकुछ खट्टा कसैला सा स्वाद थाबाकि का पानि मैंने नेपकिन से पोंछ दियावो हाफने लगि थिवो ऊठकर मुझे चुमने लगिमेरे होंठो से जैसे वो अपने हि पानि का स्वाद लेना चाह रहि होमैंने उसे फिर से पलंग पर लिटा दिया

मै धिरे से उपर उसके पास बैठा और उसके बालो को सहलाने लगाउसने बडे अनुराग से मेरि ओर देखा को शरमाकर मुस्कुराने लगिमैने उसके होठो को चुम लिया और उसकि टिशर्ट को उपर कर के निकाल दियामैने उसे फिर बाहो मे भर लियामुझे उसकि मासुम मुस्कुराहट पर प्यार आ रहा था। 

और मै उसे जि भरकर प्यार कर रहा थामैने उसके निप्पलो को चुसना शुरु किया बिच बिच मे मै उसके निप्पलो को हल्के से अपने दांतो से चुभला देता थावो फिर सरुर मे आने लगिनिचे हाथ बढाकर मैंने उसका स्कर्ट भि हुक और चैन खोलकर निकाल दियाअब वो मेरे सामने मादर जात नंगि लेटि हुइ थि। 

जिस हुस्न को देखकर कभि आहे भरा करता था और उसकी याद में अन्तर्वासना स्टोरी पढ़ता था और मुठ मारता था।, आज वो बेनकाब मेरे सामने मुझसे भोग लगवाने के लिये आतुर पडा थाप्रभु कि केसी माया है

वो मेरे सामने पुर्नतया नग्न पडि थि और अब तक मेरे कपडो का एक बटन भि नहि खुला थाहा पेंट के अंदर मेरा 6 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा लंड तडप रहा थाअपनि आझादि और अपनि बारि का इंतेजार करते हुयेउसने मुझे अपनि औऱ ख़िंचा और मेरे शर्ट के बटन खोलने लगिजल्द हि मेरा शर्ट मुझसे अलग हो गया, मै अंदर बनियान नहि पहनता हुमेरे चौडे सिने पर वो अपना मुह रगडने लगि। 

फिर निचे हाथ डालकर वो मेरा पेन्ट उतारने लगिमैंए भि देर ना करते हुये अपनि पेंट और अंडर्वियर उतार दिअब हम दोनो मादर जात नंगे एक दुसरे से लिपटे हुये थेहम दोनो जैसे एकदुसरे मे समा जाना चाहते थे

दोनो कि लिपटालिपटि, चुम्माचाटि अपनि चरम सीमा मे आने लगिकभि होंठ एकदुसरे से मिल जाते तो कभि शरिर के किसि ओर अंग को चुम रहे होते थे। 

अचानक उसने मेरे निप्पल को अपने मुह मे ले लिया और मै गनगना गयावो मजे से एक एक करके मेरे दोनो निप्पलो को बारि बारि चुसने लगिमेरे अंदर कि गरमि बढने लगिउसने भि अपनि टांगो को फैला लिया थामेरा लंड बिच बिच मे उसकि चुत पर टकरा जाता थाजैसे हि मेरा लंड उसकि चुत से टकराता, वो अपनि गांड उठाकर मेरे लंड को अपने अंदर लेने कि कोशिश करने लगतिमै हलके से अपना लंड हटा लेताअभि मै उसकि आग और भड्काना चाहता था

मैंने  अब उसको पेट के बल लिटा दिया और उसकि पिठ पर किस करना शुरु कियामेरा लंड उसकि उभरि हुई गांड पर दस्तक दे रहा थाउसने अपने पैरो को थोडा फैला लिया और मेरा लंड अब उसकि गांड और चुत के क्वार्नर से टकराने लगामै उसकि पिठ, कमर पर मसाज करते हुये किस कर रहा थानिचे आते आते अब मै उसके नितम्बो को सहला रहा था, उसे गुद्गुदि सि होने लगिउसने अपनि कमर को थोडा उपर कियाअब उसकि खुलि गांड और चुत कि फांक मेरे चेहरे कै समाने आ गईचुत कि फांके जुम्बिश कर रहि थि और एक प्रिकम का मोति उसकि चुत पर झलक रहा थामैने आगे बढकर उस मोति को अपनि जिभ से चाट लियाइसका स्वाद मुझे बहोत अच्छा लगा

अब तक हम दोनो बहोत गर्म हो गये थेमैंने उसे सिधा किया और अपने सिधे हाथ को उसकि कमर मे डाल कर उसे थोडा उपर उठा लियादुसरा हाथ मैने उसकि गरदन मे डाला और अपने लंड को उसकि चुत पर सेट करके जैसे हि झटका मारा, लंड स्लीप हो गयादोतिन बार कोशिश करने पर भि जब नहि घुस पाया तो उसने अपने हाथ से मेरे लंड को पकडा और अपनि चुत पर सेट करके मुझे इशारा किया, मैने एक धक्का लगाया और लंड थोडा अंदर घुस गयाइतने धक्के मे लंड पुरा घुस जाना चाहिये था मगर पिछले तिन सालो मे उसकि चुदाई नहि हुई थि, इसलिये चुत एक्दम टाइट हो गई थि

(प्रक्रति का नियम हि ऐसा है कि यदि कुछ दिन चुदाइ ना हो तो चुत सिकुड़ जाति है।) लंड के थोड़़ा घुसते हि उसे थोडा दर्द हुआ मगर वो खेलि खाइ थि और एक बच्चे कि मा भि थिमैंने लंड को थोडा और जोर लगाया और अब लंड सरसराता अंदर घुस गया और सिधे उसकि बच्चेदानि से टकराया

मैने लंड हलके से बाहर निकाला और जोर से धक्का मारा उसकि जोर से सिसकारि निकल गईअब मै ऐसे हि जोर जोर से धक्के मारने लगाहर धक्के के बाद उसकि सिसकारि निकल जती थिमैरी स्पीड कम थि मगर फुल पावर मे धक्के मार रहा थामै अपनि कमर कों धिरे से पिछे लेता था और फिर फुल स्पीड मे दन्न से लंड पेल देता था। 

मेरा अनुभव है इस तरह धक्के मारने से लडकि को बहोत मज़ा आता है और लंड भि बहोत देर तक टिकता है। (आप भि आजमा कर देखिये)।

सात मिनट के धक्के पिलाइ के बाद मितालि अकडने लगिअब उसकि आवाज जोर जोर से निकलने लगिवो मुझे अपने अंदर भिचने लगिअपनि गांड उठाकर लंड निगलने का प्रयास करने लगीअब मैंने अपनि पोजिशन थोडि बदलि और फुल स्पीड मे धक्के लगाने लगादोनो एकदुसरे मे समाने कि कोशिश करने लगे। 

उसने मुझे जोर से भिंच लिया और झडने लगिमैने धक्के मारने कि स्पीड बढा दिमीताली जोर जोर से मादक आवाजे निकालने लगिउसकि आवाज से मै और रोमांचित होता गया और मेरे धक्को कि स्पीड बढति गई

झडने के बाद मीताली अब निढाल से हो गईपर मेरा तो अब तक हुआ नहि थामैंने मीताली कि दोनो टांगे उठाकर अपने कंधे पर पर रख ली और लंड को जोर जोर से अंदर बाहर करने लगाधीरे धीरे मीताली फिर गरम होने लगीअब उसके मुह से मोनींग कि आवाजे निकलने लगीमीताली अपनि गांड उचकाकर मेरा लंड और अंदर तक नीगलने लगीउसकि मद्भरी आवाजे सुनकर मेरा लंड और गरम होने लगा और मै दुगनि रफ्तार से चोदने लगा

अब मैंए उसकि एक टांग निचे कर् दि और जोर हजोर से झटके मारने लगाचुत मे से फचफच कि आवाजे आने लगि थीमीताली ने एक जोरदार सिस्कारि मारि और मुझे भीच लिया, उसका गर्म लावा एक बार फिर बह निकलाएक अलग सि महक से कमरा महक गयामैने भि पांच छे धक्के मार कर उसको भिंच लिया और अपना पुरा माल उसकि चुत मे अंदर तक डाल दियादोनो जोर जोर से हाफ रहे थेथोडि देर मे मैने उसे किस किया और उसके बगल मे ढेर हो गया। 

उसने मुझे अपने से चिपटा लियाहम दोनो नंगे हि एक दुसरे से लिपटे हुये पडे रहेउसकि चुत से उसके रज और मेरे विर्य क मिश्रन धिरे धिरे रिस रहा थाउसके होंठो पर एक त्रिप्ति पुर्ण मुस्कान थि

ये Real Romantic Sex Story अभि खतम नहि हुई हैइसक अंतिम संस्करन आपको अगले भाग मे पढने मिलेंगा कि कैसे हमने रेल्वे केंटीन मे मजे लिये और नये नये तरिको से चुदाइ किजल्द मिलेंगे

कहानी भेजने वाले – Vimal Kumar Khanna, vimal।[email protected]

आपको कहानी कैसी लगी?
+1
5.7k
+1
3.5k
+1
2.3k
+1
1.6k
+1
27
+1
90

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *