/ / दो हरामि दोस्त और एक रंडी सहेली
Couple Sex Story Desi Sex Story Girlfriend Sex Story Group Sex Story Hindi Sex Story Porn Story XXX Story

दो हरामि दोस्त और एक रंडी सहेली

मैं एक रंडी लड़की हूं जिसे अपनी गांड और चूत दोनों में लंड लेना बहुत पसंद है। पता नहीं कैसे मेरी कामुकता इतनी ज्यादा बढ़ गई कि मुझे अपनी गांड और चूत दोनों में लौड़ा चाहिए था।

मेरा नाम चंचल है, और मैं दिल्ली की रहने वाली लड़की हूं। जैसा मेरा नाम है वैसा ही मेरा चरित्र है मैं वासना से भरी और बहुत ज्यादा चंचल लड़की हूं।

मेरा एक बॉयफ्रेंड भी है और उसी ने मुझे यह कहा था कि मैं अपनी अंतर्वासना Sexy Story इस वेबसाइट पर शेयर करो ताकि दूसरे लोग भी उसे पढ़ सके।

मैं एक आशावादी लड़की हूं और मैं बताना चाहती हूं कि हम लड़कियां जो चाहे वह कर सकती हैं। यही सोच कर मैं अपनी यह Group Sex Story जिसका टॉपिक दो हरामि दोस्त और एक रंडी सहेली वाली अंतर्वासना कहानी। जो मैं आप लोगों को सुनाने जा रही हूं।

मेरा एक बॉयफ्रेंड है दिनेश और हम दोनों एक आशावादी कपल है। हम दोनों का गर्लफ्रेंड बॉयफ्रेंड का रिश्ता है लेकिन हमने कोई भी कमिटमेंट नहीं कर रखी है। यानी कि हम प्यार मोहब्बत के चक्कर में नहीं पड़ेंगे और बस एक दूसरे की जरूरतों को पूरा करेंगे।

हम हफ्ते में तीन चार बार सेक्स करते हैं हमें सेक्स करना बहुत ज्यादा पसंद है और खासकर मुझे। मुझे इसके अलावा कुछ भी समझ में नहीं आता है मुझे चुदाई करवाना बहुत ज्यादा पसंद है।

मुझे पोर्न वीडियोस भी देखना पसंद है और सेक्सी कहानियां भी पढ़ना पसंद है जो मुझे और भी ज्यादा उत्तेजित कर देती हैं।

मम्मी पापा घर पर नहीं थे तो मैंने अपने बॉयफ्रेंड दिनेश को घर पर बुलाया और हम दोनों ने एक साथ मिलकर चुदाई करनी चालू कर दी।

दिनेश मुझे बहुत अच्छे तरीके से जानता है और वह मेरे शरीर को समझता है वह मुझे खूब चूम रहा था। लेकिन दिनेश चूत चाटने में नंबर वन है।

उसे मेरी चूत चाटना बहुत पसंद है उसको मेरी गीली गीली चूत पर उंगली मारना और जबान लगाना बहुत अच्छा लगता है। वह जब मेरी चूत चाटना चालू करता है तब मैं तो अलग ही चरम सुख की दुनिया में पहुंच जाती हूं।

फिर उसने अपना मोटा लौड़ा निकाला और मेरी गीली चूत में घुसा दिया।

मैं – आ! आ! दिनेश बहुत मजा आ रहा है पूरा लौड़ा डाल दो मेरी चूत में!!

दिनेश ने अपना पूरा लंबा लंड मेरी चूत में पूरा घुसा दिया। उसने अपने टट्टू तक अपना लंड मेरी चूत में घुसा रखा था।

और फिर उसने मेरी घचाघच चुदाई करना चालू कर दिया जिसमें बहुत मजा आ रहा था। सच में चुदाई करवाना मेरा पसंदीदा विषय है और मैं तो दिन रात चुदाई कर सकती हूं।

लेकिन उस दिन मुझे कुछ खास मजा नहीं आया और मैं और ज्यादा वासना आनंद चाहती थी।

तो मैंने दुनिया से कहा – दिनेश बाबू… तुम अपने दोस्त को भी बुला लो हम सब मिलकर चुदाई करेंगे

दिनेश – यह क्या कह रही हो तुम?! मैं अपने दोस्त को बुला लूं और वह भी तुम्हें छोड़ दे मेरे साथ??!!

मैंने कहा – हां! यार मजा नहीं आ रहा है… आज मुझे कुछ अलग चीज चाहे करनी है।

दिनेश मेरी बात मान गया क्योंकि हम एक आशावादी प्रेमी जोड़े थे और उसने अपने दोस्त को मेरे घर पर बुला लिया।

दोनों पक्के दोस्त थे और दिनेश का दोस्त बहुत ही जल्द समझ गया कि यहां क्या चल रहा है वह आते ही मेरे बड़े बड़े स्तनों के साथ खेलने लगा।

और नीचे से दिनेश मेरी चूत को चाटने लगा जिसमें मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था मुझे दुगना मजा मिल रहा था।

श्री दिनेश का दोस्त मुझे चूमने लगा और चुनते चुनते उसने अपना लौड़ा मेरे मुंह में डाल दिया।

मुझे लौड़ा चूसने में बहुत ज्यादा मजा आता है और दिनेश को के दोस्त का लंड भी बहुत लंबा और मोटा था। मैं अपने नरम नरम लाल-लाल होठों से उसके लोड़े को चूस रही थी और उस पर थूक लगाकर उसके लंड को दिला कर रही थी ताकि मेरी गांड में आसानी से चला जाए।

फिर दिनेश ने मुझे अपने लंड पर बैठा लिया और मैं उसके लंड की सवारी करने लगी। तभी अचानक पीछे से दिनेश का दो अपना खड़ा मोटा लंड लेकर आया और मेरी गांड में घुस आने लगा।

मैं – अहह! अहह! ऊह… दर्द हो रहा रहा है….!! तुम्हारा लण्ड बहुत मोटा है!!!

दिनेश का दोस्त बोला – चंचल कुछ नहीं हुआ बस तुम सांसे भरो।

मैं अरे मेरी जान बहुत ज्यादा टाइट है मैंने कभी भी गांड में नहीं चुदवाया चुटिया समझ तो सही!!

लेकिन दिनेश मेरी बात को नहीं सुन रहा था और उसने धीरे-धीरे कर कर मेरी गांड में अपना मोटा लंड घुसा दिया।

मैं – हाय रे… पापा… आ! आ! अहह!! आह!!! आह! ऊह… आ! आ! आ! आ… आ… आ… आ….

इतना ज्यादा मोटा लंड वह भी मेरी छोटी सी गांड के अंदर घुसा हुआ था और दोनों हरामि दोस्त मिलकर मेरी गांड चूत की चुदाई करने लगे।

दोनों बराबरी से मेरी गांड और चूत की चुदाई कर रहे थे जिसमें मुझे बार-बार चरम सुख की प्राप्ति हो रही थी। और दोनों मुझे इतने झटके के साथ चोदते थे कि दोनों का लंड एक साथ न करते हुए मैं अपने अंदर महसूस कर पा रही थी।

इतने ज्यादा उत्तेजित Kamvasna के आनंद से मैंने दो-तीन बार मूत दिया था।

हां सच में मेरा दो-तीन बार मूत निकल गया था क्योंकि दोनों हरामि दोस्त अपने मोटे मोटे लोगों से मेरी छोटी छोटी प्यारी प्यारी चूत और गांड की चुदाई कर रहे हैं।

फिर बस कुछ ही देर में दोनों का झड़ने वाला था और मेरा भी चौथी बार नोट निकलने वाला था। फिर दोनों ने अपनी रफ्तार और ज्यादा बढ़ा दी और वह मुझे और भी ज्यादा प्रचंड तरीके से मेरी चुदाई करने लगे।

फिर जैसे ही हम तीनों को चरम सुख की प्राप्ति हुई दोनों ने अपना लौड़ा निकाला और मेरे मुंह में एक साथ घुसा कर अपनी सारी मलाई झाड़ दी।

दोनों का लंड कितना मोटा था कि पूरा मेरे मुंह में घुस आएंगे और दोनों कमीने दोस्तों ने अपने मोटे मोटे लंड मेरे मुंह में एक साथ घुसा दिया।

जिससे मेरा मुंह थोड़ा सा खींच गया लेकिन मुझे उनकी मलाई पीने में बहुत ही ज्यादा मजा आया।

उस दिन मैंने वास्तविकता में ऐसा अंतर्वासना आनंद लिया जैसा मैं पोर्न वीडियोस और अंतर्वासना Desi Sex Stories में देखती थी। सच में चुदाई से अच्छा आनंद कुछ भी नहीं है यह दुनिया में सबसे बेस्ट चीज है और मैं तो एक रंडी बन चुकी हूं मुझे चुदवाने में बहुत मजा आता है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *