/ / माँ का निकाह और हलाला – 2
Bhai Behan Sex Story Couple Sex Story Desi Sex Story Group Sex Story Hindi Sex Story Maa Beta Sex Story Porn Story Romantic Sex Story XXX Story

माँ का निकाह और हलाला – 2

30 की ही लगती हो आज भी झूठ नही कह रही मगर यकीन नही होता तुम्हारी लड़की 20 की ओर लड़का 19 का है बहन ध्यान रखना बच्चो का, लड़की कही रंडी ना बन जाए ओर लड़का भी मादरचोद ना बन जाए तुम्हे देखकर लडके का मन डोल गया।

पिछला भाग – माँ का निकाह और हलाला। 

तो मम्मी ने कहा – लड़की की वो पूरी ध्यान रखती है चिंता की बात नही मगर उन्हे पता नही था उनकी लाडली बेटी ड्राइवर से गांड ओर चुत मरवा चुकी थी। लड़का मेरा बहुत प्यारा ओर सुदर है हजारो मे एक अभी उसे कुछ नही पता स्कूल से घर ओर घर से स्कूल। 

तो सबीना बोली – बहन, वहम मत रखना कुछ भी तुम आजकल के समय का ध्यान रखना मोका मिलते ही लड़का पेल भी देगा ये वहम है की वो शरीफ है मानती हू वो शरीफ हो सकता है मगर जब लंड खडा होने लगे ओर हवस भर जाए तो, वो मा बहन नही देखता, 

मुझे तो मेरे घर मे सभी लोग पेल चुके है बस बेटा रहा है वो भी घुरकर देखता रहता है जल्दी ही वो भी मुझे पेल देगा, तो अगर वहम है, तो अपने लडके को मेरे घर पर भेज देना मे देखकर बता दूगी, लुली है या लंड बन गया है। 

चाहे तो तुम सुबह​ उठाने जाओ जल्दी तो उसके पजामे मे बने तबू को देखकर अंदाजा लगा सकती हो, वो तुम्हे चोदने लायक हुआ की नही इधर उधर मुह मारने से अच्छा है घर का माल ही बरते वेसै भी तुम लगती नही हो ओरत सी अपनी कामुक अदा से लडके को ले मरो जवान खून है, 

उसके लंड की सील तुम ही खोल दो ना, 

ये सुनकर मम्मी ने कहा – तुम भी तो मोसी लगती हो उसकी मा ओर मौसी एक समान है तुम ही पता लगा के बता दो मुझे मौसी की चुदाई केसी करता है लड़का जवान हुआ की नही। 

ये सुनकर सबीना बोली – तुम मुश्ताक से चुदने को तैयार हो गयी हो मेरे कहने पर तो मै भी अपने भांजे का लंड ले लूगी बहन ओर हसने लगी। 

सबीना ने कहा – चलो कोई कुंवारा सीलबंद लंड लेकर तो देखूगी मै भी कैसा लगता है ये भी पता लगा मुझे मगर बहन मौसी चुद गयी तो फिर मा भी चुदेगी उसके लंड से ध्यान रखना ये बात। 

तो मम्मी ने कहा – चलो देखेंगे मा चुदेगी की नही मगर अब थोडा तैयार कर दो ताकी मेरी चुत तो चुदे 

सबीना बोली – आपकी चुत को तो लोग बिना तैयार हुए ही चोदने को तैयार है 

ये सुनकर मम्मी बोली – मै अपनी पसंद के लंड से ही चुदती हू सबीना ओर मै कीसी को छोडती भी नही आजतक मेने जितने भी लंड लिये है अपनी पसंद के लिए है क्योकी मुझे आवारा ओर सडकछाप लोग पसंद नही! मगर मे जिनसे चुदी हू उनके कहने पर मै उन सब के दोस्तो से भी खुब चुदी हू 

आजतक मुझे सब अच्छे लोग ही मिले! 

तो सबीना बोली – इसलिए ही तो आपकी चुत ओर गांड बेमिसाल पडी है 

तो मम्मी ने कहा – सबीना इसका पता नही मगर 5 से लेकर मै 8 इच के लोडे अपनी चुत मे ले चुकी हू, गांड मै 7 इच का लंड खा चुकी हू, बहन पूरी पूरी रात चार जवान मूसल लंड झेल चुकी हू, मै एकसाथ मुह मे हाथ मे गांड मे चुत मै 

ये कहकर – मम्मी ने सबीना को कहा – बहन मेरा होने वाला है जल्दी से मेरी चुत को चाट लो ना… 

सबीना ने कहा – बहन मैने नही चाटी चुत 

तो मम्मी ने कहा – आज मोका है ना 

ये सुनकर सबीना मम्मी की चुत पर झुक गयी ओर मम्मी की चुत को खोलकर अपनी जीभ से चुम लिया मम्मी की चुत की खुशबु से वो उत्तेजित हो उठी ओर अपनी जीभ को चुत मे लगाकर चाटने लगी। मम्मी ने भी एक मिनट का समय लिया ओर सबीना के सर को अपनी चुत पर दबा लिया ओर उसके मुह मे झडने लगी। सबीना ना चाहते हुए भी नमकीन रस पीने लगी। 

जैसे ही उसने रस गटका वेसै ही उसके स्वाद से वो कामुक हो उठी ओर जोर जोर जीभ चलाकर रस चाटने लगी दो मिनट तक चुत चाटकर, सबीना ने सर उपर उठाकर कहा – अब मालूम चला बहन तेरा रस तो अमृत है तभी मामू कुते की तरह तेरा रस चाट रहै थे। 

सबीना ने कहा – बहन चल तेरे को दुल्हन बनाती हू आज से तुम मेरी बहन नही मामी बन जाओगी ना तभी मम्मी खडी हो गयी ओर अपनी ब्रा पेटी बहन दुल्हन की ड्रेस वही लाल घाघरा ओर चोली पहनकर कुर्सी पर बैठ गयी। सबीना ने मम्मी के बाल खोलकर जुडा बनाकर दिया ओर उनके चेहरे पर मेकअप करने लगी। उधर शोकत भी कपडे लेकर आ गया ओर आमिर असलम नावेद कमरे की सजावट करने मे लग गये। 

शोकत क्रीम कलर की शेरवानी लेकर लाया ओर कटिंग शेविंग करवाने के बाद चमक मार रहा था इधर सबीना ने मम्मी को अपना पता लिखकर दे दिया ओर बात करने के लिए शोकत के नबर पर फोन कर लेना। उसी गली मे उसका पार्लर है 

ये सुनकर मम्मी ने कहा – ठीक है, मेरे लडके को भेजूगी तेरी पास उसे चुत के दर्शन करवा देना! 

तो सबीना बोली – बहन अपने लडके की सील तुम भी खोलना मे तो बाद मे कभी भी चुद लूगी ओर हसने लगी 

मम्मी ने कहा – तुम मेरे बेटे को मादरचोद बना कर ही रहोगी 

ये सुनकर सबीना ने कहा – बहनचोद ओर मादरचोद बनना कोई गलत नही है ना वो आखिर अपनी मा बहन की सेवा ही कर रहा है ना, ताकी बाहर कीसी ऐरे गेरे से वो बच सके, घर की घर मे मस्ती से चुदो ना कही आना जाना ना बदनामी का डर ना ही कीसी की गुलामी, जब मन मे आए चुद लो सबसे बढिया है 

अब तुम देख लो तीन दिन तुम आई हो कितनी रिस्क है वेसै मगर घर पर आदमी के जाते ही नंगे होकर चुदाई करो पूरे दिन बिना कीसी टेंशन के मम्मी भी ये सुनकर कामुक हो गयी, 

ओर कहने लगी – सबीना क्या ये सही है!! 

तो सबीना ने कहा – वाह! रे!! मेरी रंडी… अब तू क्या सही कर रही है गांड ओर चुत मरानी है तो घर पर ही मरवा ले वो तो तेरा खुद का बेटा है यहा पराए मर्दो से ठीक है ना लंड ओर चुत का रिश्ता सबसे पाक है, बहन बस अपने लडके को अपनी जवानी दिखाकर उसे अपने जाल मे फसा ले 

जवानी मे बहककर वो खुद चोद देगा बस तुझे तो अपनी गांड चुत ओर चुचियो को दिखाकर रिझाना है उसे मोका मिलते ही उसे एकबार दिखा देना, हरामी फिर खुद ना देखने लग जाए तो मेरे मुह पर आकर थूक देना बहन 

ये सुनकर मम्मी ने कहा – ये कोन सी बडी बात है झाडु पोचा लगाते वक्त सबकुछ दिखा दूगी फिर बात तेरी 

तो सबीना ने कहा – बहन मेरी बात नही दिखाकर उसके पजामे की तरफ देखना चोरी चोरी ओर उससे नजरे मत मिलना वर्ना डर भी सकता है। ऐसे दिखाना जैसे कुछ हुआ ही नही ओर उसे पता ही नही चले तुम उसे कुछ दिखा रही हो! 

ये सुनकर मम्मी ने कहा – बहन बस कर अब मेरी चुदास भडक रही है 

तो सबीना बोली – मौलवी साहब को बुला लाऊ क्या?!! 

तो मम्मी ने कहा – असलम ओर नावेद से तुम्हे चुदना होगा 

ये सुनकर सबीना ने कहा – कोई बात नही बहन, आग तो मेरी चुत मे भी लग गयी है तो मम्मी ने आमिर को आवाज लगा दी तुरंत आमिर भी आवाज सुनते ही नीचे आ गया 

तो मम्मी बोली – जान बेगम को तलाक तो दे दिया मगर बेगम ओर उसकी बहन की चुत की खुजली कोन मिटाएगा 

ये सुनकर कहा – बेगम आपकी चुत के लिए तो लंडो की लाइन लगवा दूगा 

तो कहा – फिर आ जाओ ओर बेचारे असलम नावेद को भी बुला लो दो दिन से बस काम करने मे ही लगे है मेहमानो की खातिरदारी तो कर दे कुछ 

ये सुनकर आमिर ने कहा – बेगम पांच दस मिनट का काम बचा है कर के अभी आते है ओर तुम दोनो की खुजली मिटाते है फिर तभी मम्मी ने सबीना को कपडे खोलने को कहा ओर अपने कपडे खोलकर नंगी हो गयी। मम्मी सबीना के पास जाकर उसके होठो पर अपने होठ लगाकर चुमने लगी सबीना के लिए ये अजीब था मगर मम्मी के चुमते ही उसकी चुदास भडक गयी ओर वो भी मम्मी को चुमने लगी। 

तभी मम्मी ने उसकी चुचियो को दबा दिया जो की बहुत नर्म थी मतलब सबीना की चुचिया लटकी हुई थी ब्रा पहनने से वो कडक लग रही थी मगर Antarvasna चुदास बढने से चुचिया कुछ कडक हो गयी थी। मम्मी उसकी काली निपल को चुसने लगी। तो सबीना ने भी मम्मी के सर को पकडकर अपनी चुचियो पर दबा दिया। मम्मी अब नीचे बैठ गयी ओर सबीना को टांगे चोडी करने को कहा, सबीना की चुत पर हल्की हल्की झाटे आई हुई थी। 

मम्मी ने अपनी जीभ को सबीना की काली चुत पर लगा दिया ओर उसे चुमने लगी सबीना को अब मजा आने लगा। उसके मुह से आह निकलने लगी थी। मम्मी ने अपनी जीभ की गति बढा दी ओर अपने हाथो से उसकी गांड को दबाने लगी सबीना अपने हाथ से अपनी चुचियो को दबाने लगी तो मम्मी चुत को छोड़कर दरी पर लेट गयी ओर उसे अपने उपर आने को कहा 69 पोजीशन मै सबीना ने अपनी चुत को मम्मी के मुह मे ठुस दिया ओर अपनी जीभ से मम्मी की चुत को चाटने लगी। 

दोनो मस्ती से एक दूसरे की चुत को चाट रही थी तभी दरवाजा खुला तो आमिर असलम नावेद बाहर खडे थे जिन्हे देखकर सबीना ने अपने हाथो से चेहरा छुपा लिया। तो मम्मी ने कहा खडे ही रहोगे या इन भट्टीयो की आग को ठंडा करोगे इस रंडी की चुत मे बहुत आग लगी पडी है। असलम ओर नावेद आज आप इसे पेलो कल का पूरा दिन ओर रात मे तुम्हारी ही हू अब इस कुतिया की ठुकाई कर दो ओर आमिर जी आप मुझे कुछ देर अपने लंड पर बैठाकर जन्नत की सैर करवा दो। 

ये सुनकर तीनो ने अपने कपडे खोल दिये आमिर ओर असलम नीचे लेट गये मम्मी ने आमिर का मूसल लंड पकडकर अपनी चुत मे गटक लिया। तो सबीना को कहा कुतिया खडी ही रहेगी क्या तभी सबीना असलम का लंड अपनी चुत मे लेकर उसपर बैठकर कूदने लगी। 

तभी मम्मी ने नावेद को कहा – यहा हमारी चुदाई देखने नही आए हो साली की गांड मे लंड पेल दो खडे खडे, क्या कर रहे हो?!! 

इतना सुनते ही असलम ने सबीना को पकडकर अपनी सीने से चिपका लिया ओर नावेद ने सबीना के पिछे आकर उसकी गांड मे अपना सुखा लंड उतार दिया। जिससे सबीना की चीख निकल पडी ओर सबीना की चुत ओर गांड की घमासान चुदाई होने लगी। इधर मम्मी की उछल उछल अपनी चुत मे लंड ले रही थी। 

दस मिनट की चुदाई के बाद मम्मी ओर सबीना झड गयी तो नावेद नीचे आ गया ओर असलम पीछे आकर सबीना की गांड फाड चुदाई करने लगे इधर मम्मी अब कुतिया बन गयी ओर आमिर ने कुतिया बनते ही मम्मी की गांड मे लंड पेल दिया। जिसे मम्मी गांड हिलाकर अंदर लेने लगी मम्मी ओर सबीना जोर जोर चिल्लाह कर चुदाई का मजा ले रही थी। 

तो साथ मे सबीना ओर मम्मी के साथ वो तीनो भी गालीया दे रहे थे मम्मी असलम ओर नावेद को बहन के लोडो चोद डालो इस रंडी की गांड फाड दो, कमीनो मादरचोदो चोदो, इस कुतिया को चोदो दम लगाकर। 

ये सुनकर असलम ओर नावेद ने कहा – भाभीजान आप क्यो चिंता कर रही हो इस छिनाल की चुत ओर गांड दोनो फाड देगे इस कुतिया की चुत ओर गांड तो वेसै ही फटी पडी है ओर हसने लगे।। 

ये सुनकर सबीना बोली – भडवो मेरी चुत ओर गांड को फाडने की ओकात नही तुम्हारी चुपचाप चोद लो!! 

ये सुनकर असलम ओर नावेद अपनी पूरी ताकत से सबीना की गांड ओर चुत को फाडने लगे। जिससे सबीना की हालात खराब होने लगी। 

ओर बीस मिनट के बाद ही सबीना रहम की भीख मांगने लगी ओर गिडगिडाकर उसे छोडने की कहने लगी, मगर असलम ओर नावेद ने अनसुना करते हुए अपनी चुदाई चालु रखी। इधर आमिर भी जोश मे आकर मम्मी की गांड को पेल रहा था ओर मम्मी मस्ती मे आकर गांड उठाकर गांड मरवा रही थी। एक घंटे की चुदाई के बाद सबीना की हालात खराब हो गयी झड झड कर। 

मगर मम्मी मस्ती से चुद रही थी तभी आमिर का बदन अकडने लगा तो मम्मी ने आमिर को अपना माल पिलाने को कह दिया। ये सुनकर आमिर खडा हो गया ओर मम्मी ने बैठकर आमिर के लंड को अपने मुह मे भर लिया ओर एक मिनट मे ही आमिर ने अपना गर्म वीर्य मम्मी के मुह मे डाल दिया। 

जिसे पीकर मम्मी आमिर के लंड को चाटकर साफ करने लगी तो उधर सबीना ने मम्मी को बहन मुझे बचाओ इन कुतो से तो मम्मी को दया आ गयी ओर असलम नावेद को अपना माल पिलाने को कहने लगी। ये सुनकर असलम खडा होकर मम्मी के मुह के सामने आ गया ओर मम्मी के मुह मे असलम ने लंड पेल दिया ओर मम्मी का सिर पकडकर उसे चोदने लगा। 

पांच मिनट के बाद असलम के लंड ने ढेर सारा वीर्य मम्मी के मुह मे निकाल दिया ओर मम्मी ने असलम के माल को पीकर उसके लंड को चाटकर साफ कर दिया। इसके बाद नावेद के लंड को मुह मै लेकर चुसने लगी ओर दो मिनट की चुसाई के बाद नावेद ने भी अपना माल मम्मी के मुह मे गिरा दिया। नावेद का माल मम्मी ने पीया नही बल्कि दरी पर पडी सबीना के मुह को खोलकर उसके मुह मे डाल दिया। 

जिसे सबीना ने गटक लिया मम्मी ने फिर नावेद के लंड को चाटकर साफ कीया ओर सबीना के ऊपर लेटकर उसे कीस करने लगी दो मिनट बाद मम्मी उसकी बगल मे लेट गयी ओर सभी जने नंगे लेटकर सुस्ताने लगे। पांच मिनट के बाद मम्मी ने सबीना को पूछा – बहन मजा आया ना 

ये सुनकर असलम ओर नावेद – हमे तो बहुत आया 

तो सबीना ने कहा – हा बहन काफी समय बाद इतनी जोरदार चुदाई हुई है मेरी बहुत मजा आया 

तो आमिर बोला – हम ऊपर जाते है तुम जल्दी से तैयार होकर आ जाओ फिर बेगम आज रात को भी जगना होगा इसलिए काम कर के आराम कर दो आप 

ये सुनकर मम्मी बोली – ठीक है आप जाओ बीस मिनट बाद आप नीचे आ जाना 

सबीना को कहा बहन खडी हो जा अब जल्दी से ये सुनकर सबीना बोली बहन की लोडी मेरी तो हिम्मत ही नही रही है ओर हसने लगी, 

ओर कहने लगी – मुश्ताक से चुदाने चली तुझे मगर तुने तो मुझे ही चुदवा दिया 

ये कहकर सबीना खडी हुई ओर कपडे पहनने लगी इधर मम्मी ने भी कपडे पहन लिये ओर कुर्सी पर बैठ गयी। सबीना ने मम्मी को सभी गहने पहना दिये ओर चेहरे पर कुमकुम लगाकर उन्हे आधे घंटे मे दुल्हन बनाकर तैयार कर दिया। उधर शोकत भी शेरवानी सेहरा जुती पहनकर दुल्हा बनकर तैयार हो गया था तभी सबीना ने गेट खोलकर, 

आमिर को आवाज लगा दी – दुल्हन तैयार है… आ जाओ!!! 

ये सुनकर आमिर नीचे आ गया ओर सबीना आमिर के साथ मम्मी को लेकर छत पर जाने लगी। शोकत असलम नावेद कमरे मे पहले से ही मौजूद थे मम्मी के पहुचते ही वो खडे हो गये ओर असलम नावेद ने सबीना को वरमाला दे दी। 

मम्मी ने वरमाला लेकर शोकत के गले मे डाल दी एकबार मै ही तो शोकत ने भी मम्मी के गले मे वरमाला डाल दी जिसपर सभी ने तालीया बजा दी। फिर मम्मी ओर शोकत बैठ गया आज आमिर ने निकाह पढा, 

ओर शोकत को पूछा – निकाह कबूल है? 

तो शोकत ने कहा – कबूल है! कबूल है! कबूल है! 

ये सुनकर आमिर अब मम्मी के पास आया ओर मम्मी को पूछा – निकाह कबूल है? 

ये सुनकर मम्मी ने कहा – कबूल है! कबूल है! कबूल है! 

ओर ये सुनकर सबीना ने मम्मी को गले लगाकर बधाई दी तो शोकत को असलम नावेद ओर आमिर ने गले लगकर बधाई दी। आमिर ने सबको छुहारे बाटकर निकाह की बधाई दी ओर अब असलम नावेद ने कहा खाना खा लो पहले सब। 

ये सुनकर सबने कहा हा भूख लग रही जल्दी करो तभी असलम नावेद ने खाना डाल दिया मम्मी शोकत ओर सबीना आमिर के साथ कुर्सी पर एकसाथ बैठ गयी ओर मेज पर खाना परोस दिया। सबने एक दूसरे को मिठाई खिलाकर खाना खाया खाना खाकर जब फ्री हुए तो चार बज गये थे। 

ये देखकर सबीना बोली – मामू मुझे छोडकर कोन आएगा 

तो शोकत बोला – अकेली चली जा ना यहा से आटो लेकर दस मिनट लगेगी 

तभी मम्मी ने कहा – सबीना कल सुबह दस बजे आना एकबार 

तो सबीना हसकर बोली – कल फिर दुल्हन बनाना है क्या 

ये सुनकर सब हसने लगे ओर सबीना ने कहा – ठीक है बहन आ जाऊगी! 

तो शोकत ने कहा – आमिर सबीना को आटो करवा आओ यार तो आमिर सबीना को छोडने चला गया शोकत ने मम्मी को बेगम आप आराम कर लो कुछ देर फिर आज रात को सोने का मत कहना। 

ये सुनकर मम्मी ने कहा – इस रात का इंतजार तो बहुत दिनो से था मुझे ओर वो कमरे मे चारपाई पर लेट गयी। इधर शोकत भी नीचे जाकर लेट गया ओर आमिर असलम नावेद भी सफाई कर के आराम करने लगे। शाम को 6 बजे आमिर ने चाय बनाकर सबको उठाया ओर सब चाय पीने लगे। 

चाय पीकर शोकत ने कहा – आमिर हम बाजार चलकर आते है कुछ काम है। 

तो मम्मी बोली – आज भी काम है क्या आपको 

ये सुनकर शोकत ने कहा – हा बेगम आपके लिए ही तो जा रहै है एक घंटे के बाद शोकत ओर आमिर बाजार से समान लेकर लोटे 

तो असलम ओर नावेद होटल से रोटी सब्जी लाने चले गये वो आधे घंटे बाद खाना लेकर आए तो अभी कीसी को भूख नही थी खास। 

तो सबने कहा – जिसको जितनी भूख है खा ले, बाकी रात मै खा लेना, इनको भी तो सुहागरात मनानी है। कब तक बैठे रहेगे। 

ये सुनकर सब हसने लगे। 

खैर कुछ देर बात करने के बाद सबने खाना खाया ओर मम्मी कमरे मे जाकर लेट गयी करीब आधे घंटे बाद शोकत ने दरवाजा खोला तो मम्मी आवाज सुनकर बेड पर घुघट निकालकर बैठ गयी। शोकत ने दरवाजा को लोक लगाया ओर अंदर आकर फुलो की लडीयो को हटाकर बेड पर बैठ गया। मम्मी के पास मम्मी ऐसे शर्मा रही थी जेसै को वर्जिन दुल्हन ही हो तभी शोकत मम्मी के करीब आ गया ओर मम्मी का घुघट उठाने के लिए हाथ बढा दिया। 

तो मम्मी ने आज भी अपना घुघट पकड लिया ओर शोकत को कहा – भाईजान अब मे आपकी बहन नही, बेगम हू पहले, मुह दिखाई दो, तब ये चांद दिखेगा!! 

ये सुनकर शोकत ने कहा – बेगम चांद का दिदार तो करवाओ​ पहले आपकी मुह दिखाई भी देगे 

तो मम्मी ने कहा – तो खुद ही दिदार कर लो चांद के 

ये सुनते ही शोकत ने धीरे धीरे मम्मी का घुघट उठाकर उनके सर के पिछे पल्ट दिया ओर कहने लगा – मुझे तो यकीन ही नही हो रहा है ऐसा भी होगा कभी 

ये सुनकर मम्मी ने कहा – यकीन करो जान अब तो 

ये सुनकर शोकत ने कहा – चांद भी फीका है बेगम तुम्हारे आगे 

तो मम्मी ने मुस्करा कर नजरे छुपा ली 

तभी शोकत ने मम्मी को आख बंद करने को कहा ओर अपनी जेब मे हाथ डालकर एक डिब्बी निकाली ओर मम्मी को हाथ आगे करने को कहा तो मम्मी ने अपना हाथ आगे कर दिया। शोकत ने डिब्बी खोलकर उसमे रखी सोने की उगुठी निकाली ओर मम्मी की उगलि मे डाल दी ओर आखे खोलने को कहा। सोने की उगुठी देखकर मम्मी की आखे खुली रह गयी ओर वो शोकत पर गुस्सा हो गयी। 

बोली – ये क्या है मिया, ये नही चाहिए मुझे, 

तो शोकत ने कहा – तोहफा देने पर गुस्सा नही प्यार करते है बेगम 

ये सुनकर मम्मी शांत हो गयी ओर शोकत के गले लग गयी। शोकत ने भी मम्मी को बाहो मे भर लिया कसकर शोकत के भारी शरीर मे मम्मी समा गयी ओर दोनो पांच मिनट तक लिपटे रहै। 

फिर मम्मी ने कहा – सुनिए जी पहले दूध पी लो 

तो शोकत ने अपनी जेब से दो गोली निकाली ओर दूध के साथ पी गया 

मम्मी ने कहा – कल आमिर ने भी ऐसी ही दवा ली थी क्या है ये 

तो उसने कहा – सैक्स पवार बढाने की रात को यादगार बनाना है ना 

ये सुनकर मम्मी ने कहा – यादगार तो बनाना ही होगा, आपकी बहन अब बेगम जो बन गयी है आपकी! 

ये सुनकर शोकत ने कहा – बेगम ये तो सही कहा, एक दिन के लिए ही सही मगर आप मेरि बेगम तो बनी मम्मी को शोकत पहली नजर मे ही भा गया था। 

आज वो अपनी मन की सारी इच्छाए पूरी करना चाहती थी शोकत के साथ मम्मी ने चुनरी को नीचे फेक दिया ओर शोकत की जाघो पर सर रखकर लेट गयी। दोनों का रोमांस किसी हिंदी सेक्स स्टोरी की तरह चल रहा था, दोनो एकदूसरे को ऐसे देख रहे थे जैसे बरसो के बिछडे हुए मिले हो। तभी शोकत ने मम्मी के सर पर हाथ रख दिया ओर मम्मी शोकत के दूसरे हाथ को अपने हाथ मे लेकर चुमने लगी। 

शोकत ने कहा – बेगम मै तो बहुत उदास था सुबह जब पर्ची डाली आमिर ने मुझे लगा मेरी नाम की पर्ची तो नही आनी तय है 

ये सुनकर मम्मी ने कहा – एक मिनट रूको ओर मम्मी ने बेड से उतरकर अलमारी को खोला ओर अपने पर्स से पर्ची निकाली सुबह वाली ओर फिर से शोकत की जाघो पर सर रखकर लेट गयी ओर शोकत को आखे बंद करने को कहा, तो शोकत ने अपनी आखे बंद कर ली। 

मम्मी ने अब शोकत के हाथ को पकडा ओर उसकी हथेली पर चारो पर्ची रखकर आखे खोलने को कहा शोकत ने आखे खोलते ही पर्ची देखकर कहा बेगम अब इसकी क्या जरूरत है ओर फेकने लगा। तो मम्मी ने उसे रोका ओर बोला पहले खोलकर तो देखो सभी पर्ची ये सुनकर ने सभी पर्ची को खोलकर देखने लगा। सभी पर्ची मै शोकत अपना नाम देखकर हक्का बक्का हो गया, 

ओर बोलने लगा – बेगम ये क्या है 

तो मम्मी ने कहा – भाईजान आपकी दुल्हन बनने के लिए आमिर को मेने ही सभी पर्ची पर आपका नाम लिखने को कहा था आपके होते हुए मे दूसरे की बेगम केसै बनू कल आमिर की बेगम बनना मजबूरी थी। वर्ना मै तो कल आपकी ही बेगम बनती। 

ये सुनकर शोकत ने कहा – सच मे तुमने मेरा दिल जीत लिया आज जब तक मै जिंदा हू तबतक तुम्हारा गुलाम बनकर रहूगा आज से 

मम्मी ने कहा – गुलाम नही मेरी जान बनकर रहना सदा 

ये सुनकर शोकत ने कहा – जरूर बेगम ओर मम्मी के उपर झुककर मम्मी के होठो पर होठ लगा दिये। मम्मी भी शोकत के होठो को जोर से चुसने लगी। शोकत बडे प्यार से मम्मी के होठो पर लगी गुलाबी लिपस्टिक को खाने लगा। शोकत के हाथ मम्मी की चुचियो को सहलाने लगे जिससे मम्मी की चुदास भडकने लगी। पांच मिनट किस करने के बाद शोकत ने मम्मी को बैठा लिया ओर उनका ब्लाउज उतार फेका। 

मम्मी की कडक चुचियो को देखते ही शोकत उनपर टुट पडा ओर ब्रा के उपर से ही उनको पीने लगा। तो मम्मी की आहे निकलने लगी शोकत ने अपने हाथ पीछे ले जाकर मम्मी की ब्रा खोलकर उनके कबूतर आजाद कर दिये ओर अब शोकत मुह मे लेकर दूध को पीने लगा। मम्मी के छीटे छोटे गुलाबी निपल अपने मुह मे भरकर जोर से काटने लगा जिससे मम्मी की चीख निकल गयी। तभी शोकत ने मम्मी के लहगे का नाडा खींचकर लहंगा खोला। 

तो मम्मी ने अपनी गांड उठा दी ओर शोकत ने लहंगा खींचकर नीचे फेक दिया अब मम्मी के बदन पर सिर्फ लाल रंग की पेटी बची थी। शोकत अब मम्मी पर झुककर उनकी नाभी चाटने लगा ओर फिर नीचे खिसककर मम्मी की पेटी पर किस करने लगा। मम्मी ने भी अपनी गांड उठाकर चुत चटाने को कहने लगी शोकत ने भी मम्मी के कहते ही उनकी पेंटी खींचकर मम्मी की टांगो को हवा मै फैला दिया ओर अपनी गर्दन झुकाकर मम्मी की गुलाबी चुत को अपने होठो से चुमने लगा। 

चुत को चुमकर शोकत ने अपनी मोटी जीभ मम्मी की गुलाबी चुत की फाको के बीच डाल दी ओर मम्मी की चुत को चाटने लगा। मम्मी शोकत की चुसाई के आगे ज्यादा देर नही टिक सकी ओर पांच मिनट मे ही शोकत के मुह मे अपना नमकीन रस भर दिया जिसे पीकर शोकत मम्मी की गांड के छेद को चाटने लगा। 

पांच मिनट गांड चाटने के बाद मम्मी बोल पडी – शोकत अब अपना हथियार भी आजाद कर दो, बेचारे का दम घूट रहा होगा!! 

ये सुनकर शोकत खडा हो गया ओर अपने कपडे खोलकर नंगा होकर बेड पर लेट गया गोली, खाने से शोकत का लंड इतना कडक हो रहा था की उसपर पानी की बाल्टी टांग दो चाहे मम्मी 69 की पोजीशन मे आ गयी ओर शोकत के उपर लेटकर शोकत के लंड के सुपारे को जीभ से चाटने लगी। उधर शोकत मम्मी की चुत ओर गांड को चाटने लगा। 

शोकत के लंड से आ रही पेशाब ओर वीर्य की गंद से उत्तेजित होने लगी ओर शोकत का लंड मुह मे लेकर कुल्फी कि तरह खाने लगी। उधर शोकत मम्मी की चुत को चाटते चाटते ही मम्मी की गांड मे अपनी दो उगलिओ को डालकर गांड को चोदने लगा। जिससे मम्मी एकबार फिर​ 10 मिनट मे झडने को हो गयी शोकत के लंड का सुपारा चूसाई से लाल हो गया। 

तभी मम्मी का बदन अकडने लगा तो उन्होने अपनी जाघो से शोकत के मुह को दबाकर अपनी चुत को उसके मुह मे दबा दिया। शोकत ने भी अब अपनी जीभ की गति को बढा दिया जिससे मम्मी एक मिनट मे ही शोकत के मुह मे झडने लगी। मम्मी ने अब शोकत के सर को अपनी जाघो के दवाब से आजाद कर दिया ओर शोकत को कहा मेरी चुत की खुजली को मिटा दो अब तो। 

ये सुनकर शोकत ने कहा – बोलो केसै करू 

तो मम्मी ने कहा – बस कर लो केसै भी करो मगर करो 

ये सुनकर शोकत ने कहा – तो बेगम लेट जाओ ना मम्मी के लेटते ही शोकत ने मम्मी की गांड के नीचे दो तकिये लगाकर। 

उनकी टांगो को फैला दिया ओर अपना लंड मम्मी की गुलाबी चुत पर रगड़ने लगा जिससे मम्मी की सांसे जोर से चलने लगी ओर आह आह करने लगी। शोकत मम्मी की चुत पर एक मिनट तक लंड को रगडता रहा जिससे मम्मी की हालात खराब होती रही तभी अचानक शोकत ने एक जोर के झटके से अपना पूरा लंड मम्मी की चुत मे उतार दिया। 

लंड चुत मे जाते ही मम्मी जोर से चीख पडी तभी शोकत ने लंड बाहर निकालकर एकबार पूरी ताकत से चुत मे लंड पेल दिया। मम्मी दूसरे झटके से हिल गयी पूरी तरह तभी शोकत ने आधा लंड बाहर निकालकर फिर से एक झटके मे पूरा लंड चुत मे पेल दिया। अब मम्मी ने अपनी गांड को हिलाकर। 

शोकत को कहा – भाईजान लगा दो पूरी ताकत ओर मिटा दो इस चुत की खुजली तुम्हारी बेगम की चुत का भोसडा बना दो… चोद चोद चोदकर मुझे अपनी रंडी बना लो… चोदो​ मुझे… 

ये सुनकर शोकत हवसी की तरह मम्मी की चुत को पेलने लगा शोकत का मूसल लंड मम्मी की बच्चेदानी तक पहुंच रहा था। जिसका मम्मी चीखकर मजे ले रही थी शोकत बीच बीच मे मम्मी के दूध को मसलकर उनका दर्द डबल कर रहा था। मम्मी को ऐसी चुदाई ही पसंद आती है जिसमे उनका बदन दर्द करने लगे ओर शोकत अब वेसी ही चुदाई कर रहा था। 

15 मिनट की चुदाई के बाद मम्मी की चूत का झरना फुटकर शोकत के लंड पर बहने लगा तो मम्मी ने शोकत को कहा जान अब गांड कि खुजली भी मिटा तो शोकत ने मम्मी को घोडी बना लिया ओर उनकी मोटी गांड को हाथो से पकडकर उनकी गांड के छेद पर लंड का सुपारा रखकर झटके के साथ आधा लंड गांड मे पेल दिया। 

मम्मी के रस से शोकत का लंड चिकना हो गया था जिससे शोकत का लंड मम्मी की गांड मै आराम से घुस गया ओर मम्मी ने भी गांड को उचकाकर शोकत को गांड चुदाई का कह दिया। शोकत ने सुनते ही मम्मी की गांड फाड चुदाई शुरू कर दी ओर कमरे मे पटापट पटापट पटापट की आवाजे गुंजने लगी। 

मम्मी भी शोकत को उकसा रही थी – शोकत ऐसे ही ओर जोर से… हाय रे… फाड दी मेरी गांड… शोकत जरा जोर से आह! आह! आह! 

कहकर शोकत को उकसाती रही ओर मम्मी की इन कामुक आवाजो को सुनकर शोकत पूरी ताकत से मम्मी की गांड फाडने लगा। शोकत ने मम्मी की गांड पर थप्पड मार मारकर गांड को पर अपनी उगलियो के निशान ही छाप दिये। शोकत बीस मिनट तक मम्मी की गांड फाडता रहा मम्मी एकबार ओर झड गयी तो शोकत को जान अब मुझे गोद मे ले लो अपनी। 

ये सुनकर शोकत बैड पर बैठ गया तो मम्मी शोकत की गोद मे बैठकर अपनी चुत मे लंड को गटक लिया ओर शोकत के होठो को चुसने लगी। शोकत भी मम्मी की चुचियो को दबाकर मम्मी के होठो का रस पीने लगा ओर मम्मी धीरे धीरे लंड को अंदर बाहर करने लगी। दोस्तो इस पोजीशन मे मुझे सैक्स करना बहुत पसंद है। 

मेरी मम्मी को कुतिया बनकर चुदना ओर गोद मै बैठकर चुदना बहुत पसंद है शोकत ओर मम्मी अब चुदाई के साथ साथ एक दूसरे के बदन को चुसकर भी मजे ले रहै थे। बीस मिनट की चुदाई के बाद शोकत ने ढेर सारा गर्म वीर्य मम्मी की चुत मे भर दिया। जिससे मम्मी की चुत को बहुत सुकुन मिला ओर दोनो यूही गोद मे एकदूसरे से चिपककर बैठे रहै दो मिनट के बाद शोकत का लंड मुरझाकर बाहर निकलने लगा। 

तो उसी के साथ मम्मी का रस ओर वीर्य भी बहकर बाहर आने लगा मम्मी ने शोकत को चलो मुझे पेशाब करके आना है। 

ये सुनकर शोकत ने कहा – कपडे पहनने होगे 

तो मम्मी बोली – चलो ना कोई नही है आसपास आओ 

ये सुनकर शोकत मम्मी के साथ बाहर आ गया तभी मम्मी छत की चारदिवारी के पास बने नाले के पास बैठकर पेशाब करने लगी। तो उनकी चुत से सीटी की आवाज गुजने लगी शोकत पेशाब करने के लिए मम्मी के खडे होने का इंतजार कर रहा था। तो मम्मी ने शोकत को अपने पास बुला लिया ओर खडी हो गयी तो शोकत पेशाब करने लगा। 

मम्मी शोकत के पास ही खडी रही तो शोकत ने कहा – बेगम पेशाब भी चख लो कैसा है 

ये सुनकर मम्मी ने कहा – अब तो कर लिया अब क्या चखू 

तो शोकत बोला – बैठ जाओ जल्दी तो अपने पेशाब को रोक लिया 

तो मम्मी भी नीचे बैठकर अपना मुह खोल दिया तभी शोकत ने अपना लंड मम्मी के मुह मै डाल दिया ओर मूतने लगा। 

मम्मी भी गर्म पेशाब गटगट कर पीने लगी शोकत ने कहा बेगम आमिर का अच्छा था या हमारा। 

ये सुनकर मम्मी बोली – ये बात आमिर ने बताई है तभी आपने कहा है 

ये सुनकर शोकत ने कहा – बेगम के शोक पूरे ना कर सके वो क्या मर्द हुआ 

तो मम्मी बोली – ये बात है तो पहले ही बुला लेते तो शोकत बोला आप भी तो शर्म कर गयी बुलाकर ओर हसने लगा। मम्मी खडी होकर अब शोकत से चिपक गयी। 

तो शोकत ने भी मम्मी को बाहो मे ले लिया ओर दोनो छत पर घुमने लगे, 

तभी शोकत ने मम्मी को कहा – बेगम जरा रूको मै आया ओर कमरे से एक लिफाफा लेकर आया ओर उसमे रखे पान निकालकर मम्मी को दे दिया ओर एक खुद खा लिया। दोनो पान चबाते हुए नंगे ही छत पर घुमने लगे दस मिनट मे पान खाकर दोनो ने मुह धोया ओर कमरे मे आ गये। कमरे मे आते ही मम्मी ने घुटनो के बल बैठकर शोकत के सोये लंड को मुह मे ले लिया मम्मी की जीभ लगते ही शोकत का लंड अपने रूप मे आने लगा। 

मम्मी ने दस मिनट लंड को चुसकर उसकी नसे खडी कर दी मम्मी अब मेज पर जाकर कुतिया बन गयी तो शोकत ने पिछे आकर चुत पर लंड रखकर चुत मे लंड पेल दिया ओर ताबडतोड चुदाई करने करने लगा। मम्मी भी मस्ती मे आकर आहे भरने लगी ओर चुदाई का मजा लेने लगी शोकत अब पांच मिनट चुत मे लंड पेल रहा था। तो पांच मिनट गांड मे मम्मी को भी इसमे खुब मजा आ रहा तीस मिनट तक शोकत मम्मी की चुत ओर गांड को पेलता रहा। जिससे मम्मी कि चुत दो बार झड गयी शोकत ने अब मम्मी को गोद मे उठा लिया ओर खडे खडे मम्मी की चुत कि चुदाई करने लगा। 

मम्मी का वजन अब भी 50 किलो ही है जिसमे से उनकी मोटी गांड ओर चुचियो का वजन होगा दस किलो तो शोकत की ताकत देखकर लग रहा था। जैसे कोई खिलोने को गोद मे उठा हिला रहा हो मम्मी शोकत की गर्दन मे बाहो को डालकर चुदाई का पूरा मजा ले रही थी। बीस मिनट की घमासान चुदाई के बाद मम्मी ओर शोकत एक साथ झड गये। 

तो मम्मी को शोकत ने बेड पर लाकर लेटा दिया ओर खुद भी मम्मी के बगल मे लेटकर सुस्ताने लगा। तभी शोकत ने मम्मी को पूछा बेगम कैसा लगा। 

तो मम्मी बोली – जान तुम तो जवानो को भी फैल करते हो 

ये सुनकर शोकत ने कहा – तुम्हे देखकर ही जोश भर जाता है बेगम वर्ना अब तो उम्र होने लगी है 

ये सुनकर मम्मी ने कहा – उम्र चाहे कितनी भी हो जाए ये मुसल लंड तो मेरे कहते ही खडा हो जाएगा 

ये सुनकर शोकत ने कहा – हा बेगम ये तो सही कहा, इतनी रंडीयो को पेला है मगर तुम्हे पेलने के बाद बार बार पेलने का मन करता है। 

मम्मी बोली – जान पेलते रहो अपनी बेगम को, रंडीयो के पास जाने की जरूरत ही नही है। 

ये सुनकर शोकत ने कहा – अब तो तुम ही हो घर पर तो मेरा लड़का ही मेरी बेगम को पेलने लगा है मादरचोद तो वो भी नखरे करने लगी है जवान लंड मिलने लगा 

तो मम्मी बोली – तो उसे ओर कोई नही मिली क्या पेलने को 

ये सुनकर शोकत बोला – उसने अपनी दोनो बहनो को पेला, पहले उनका निकाह हो गया, तो अपनी चाची को पेलने लगा, 

ओर उसकी अम्मी ने दोनो को पकड लिया तो उसने अपनी अम्मी को पेल दिया चाची के साथ मिलकर एक बार जवान लंड खा दिया। तो उसकी चुत भी जवान लंड मागने लगी अब वो दिन मे चाची ओर अम्मी दोनो को एकसाथ पेलता है हरामी 

ये सुनकर मम्मी ने कहा – कोई बात नही आप मुझे पेलते रहो 

तो शोकत बोला – बेगम तुम्हे तो पेलना ही है जबतक तुम कहोगी तबतक 

ये सुनकर मम्मी बोली – तो पहले कुछ खा ले फिर पेल लो अपनी बेगम को वहा तो आपकी बेगम अपने बेटे से चुद रही होगी 

तो शोकत बोला – क्या फर्क पड़ता है फटे भोसडे को कोई भी चोदो चाहे चुत हो तो तुम्हारी जैसी 

तभी दोनो खडे होकर पास के कमरे मे जाकर रोटी खाने लगे रोटी खाकर दोनो ने दो राऊड ओर चुदाई करी ओर फिर सुबह पांच बजे दोनो सो गये सुबह नो बजे आमिर ने दरवाजा खटखटाया। तो दोनो की आखे खुली आमिर ने कहा चाय तैयार है नीचे आ जाओ। 

ये सुनकर शोकत लुगी लपेटकर नीचे चला गया ओर मुह धोकर चाय नाश्ता उपर ही लेकर आ गया मम्मी नाइटी पहनकर बाहर मुह धोकर आ गयी ओर दोनो चाय पीने लगे। चाय पीकर मम्मी शोकत की गोद मे बैठ गयी ओर शोकत के चुमने लगी, 

पाच मिनट के बाद मम्मी बोली – मे हगने जा रही हू तुम जाना चाहो पहले तो हो आओ 

तो शोकत ने कहा – पेशाब करने है मुझे तो बस 

ये सुनकर मम्मी बोली – करना नही पिलाना है आपको मे समझ गयी, आ जाओ फिर मेरे साथ, 

मम्मी टायलेट मे नाइटी खोलकर नंगी होकर सीट पर बैठ गयी, तो शोकत सामने आकर खडा हो गया ओर मम्मी के मुह पर पेशाब करने लगा। मम्मी मुह खोलकर पेशाब पीने लगी मगर प्रेशर ज्यादा होने के कारण गर्म पेशाब मम्मी के पूरे बदन पर गिरने लगा। 

शोकत के पेशाब करते ही मम्मी ने कहा – मेरा तोलिया लाकर दो कमरे से मै नहाकर आती हू अभी मम्मी फिर नहाकर तोलिया लपेटकर कमरे मे आ गयी ओर शोकत को कहा आज क्या पहनू जान साडी सुट जीन्स बताओ 

तो शोकत ने कहा – जीन्स पहनो बेगम 

तो मम्मी ने काले रंग की ब्रा पेटी पहनकर नीचे रंग की जीन्स ओर सफेद टीशर्ट पहन ली ओर अपने गीले बालो को सुखाकर चोटी बना ली। मम्मी अब कॉलेज जाने वाली लड़की लग रही थी मम्मी ने तैयार होकर शोकत को कहा – आप भी नहा लो ओर सबीना को लेकर आ जाओ 

तो शोकत ने कहा – वो दस बजे आ जाएगी उसको कहा हुआ है तो मम्मी ने घडी की ओर देखकर कहा जनाब दस बज गये। आप भी नहा लो फिर नीचे चलते है 

ये सुनकर शोकत भी नहाने चला गया शोकत के नहाकर आने के बाद मम्मी ओर शोकत 10.30 बजे नीचे आ गये नीचे आते ही असलम नावेद ओर आमिर ने पूछा कैसी रही आपकी सुहागरात 

तो शोकत ने कहा – सुहागरात तो रात वाली ही थी पहले जो मनायी थी वो तो सिर्फ रात ही थी, ये सुनकर मम्मी ने कहा – सुहागरात तो कल रात को दो रात मे ही मनाई है पहले तो सिर्फ रात ही थी तभी दरवाजे के खुलने की आवाज आई ओर सबीना अंदर आ गयी। ओर आते ही मम्मी के गले लगकर पूछने लगी मामी मामूजान ने तग तो नही कीया ना ज्यादा तो मम्मी ने कहा – नही तग नही बस सोने नही दिया ये सुनकर सभी हसने लगे।

ये इस मुस्लिम कामुकता सेक्स स्टोरी का माँ की अन्तर्वासना का 28 पार्ट है, पिझले पार्ट्स भी पढ़े और हिलाये।

कहानी अभी जारी है, पढ़ते रहिये मेरी माँ की अन्तर्वासना की आत्म कथा को, और मिलते है अगले भाग में। Writer – Rohit Kumar, [email protected]

आपको कहानी कैसी लगी?
+1
25.7k
+1
23.5k
+1
5.5k
+1
6.5k
+1
40
+1
356

Similar Posts

22 Comments

  1. कास मुझे भी कोई ऐसे सुख दे पता तो मज़ा ही आजाता ज़िन्दगी का। वैसे कहानी लिखने वाला बहुत ही अच्छा लिखता है।

    1. मेरी सच्ची कहानी पसंद करने के लिए धन्यवाद आपका

  2. बहुत अच्छी सेक्स स्टोरी लिखी है काफी लम्बी थी लेकिन मज़ा बहुत आया मेने तो दो बार झार दिया, हां हां हां हां।

  3. सचमे ऐसी औरते सुच में होती क्या ??? मुझे कोई ऐसी औरत क्यों नहीं मिली आजतक। जो लड़की मूत मिले में तो हमेशा उसके पैरो में गिरा रहूँगा।

  4. सच बताना मुझे कौन-कौन चाहता है उसे भी एक ऐसी ही औरत मिले।

    1. चाहने से कुछ नही मिलता मेरी बीबी मुझे मेरी मा जैसी रंडी चाहिए थी मगर नही मिली

  5. सबीना तो बड़ी ही खतरनाक लड़की है साला, इसकी सोच तो देखो घर में चुदाई करो और कोई टेंशन नहीं। वैसे बोल भी सही रही ये सचाई है सब घर में नज़र डालदे है।

    1. जी मैने देखा है यही सबसे सुरक्षित ओर बढिया है बस हर कोई बताने ओर लिखने की हिम्मत नही कर सकता है

    2. Sahi hai india me bhi cosplay ho rha hai wobhi real bilkul sale angrez kya kerte honge cosplay yha dekho asli shadi or asli ka talaak ho rha hai for the only sexual enjoyments. Salute to the auther and this amazing website jo itni mast mast sex kahani publish kerte hai.

    1. राजधानी मे मेरी कहानी पढी जा रही है इसलिए आपका शुक्रिया

  6. भाईसाहब अखंड चीज़े हो रही है दुनिया में और मेंचुटिया यह अन्तर्वासना पढ़के मुठ मार रहा हु।🤣🤣🤣

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *