Darinde Se Mohabbat- 9

loading...

यह तो भाषण दे गया यार!”

एक दोस्त: “मगर बिलकुल सही कहा जो भी कहा उसे ने!”

विकास: “सच है, हम लोग तो अपने आंटी बाप के करीब हे. उन्न का कंट्रोल रहा हम पर छोते से ही, मगर उसे कविता को तो बहुत ज्यादा च्छूत मिली है बचपन से!!शायद इसी लिए वो इसे निकली ना!”

बाद में विकास सोचने लगा के उसका सोच गलत था लड़कियों के बारे में… शायद वो गलत ही सोच रहा था और उन्न लड़कियों को कोस रहा था अक्सर…मगर दोष उन्न के नहीं थे, ऐसा विकास ने सोचा इस बार!!

अब विकास, विकासा से मिलने गया कई बार, कभी कॉलेज खत्म होने के बाद, तो कभी सॅटर्डेस को दोनों मिले, केफे गये, पिज़्ज़ा खाने गये और थोड़ा घूमने भी गये. विकास को उसके ज्यादा करीब जाने में हिचकिचाहट हो रही थी.यह पहली बार जिंदगी में वो किसी लड़की के साथ था, पहला किस भी नहीं किया था. तो तीसरी या चवती बार मिलने पर विकासा को एक मकान के पीछे लेगया, दोनों खड़े थे और विकासा उसे मकान के दीवार पर अपने पीठ किए खड़ी थी के विकास ने उसको दीवार से चिपकाया और धीरे से अपने दोनों हाथों को विकासा के हाथों में डाला और दोनों के पंजे के उंगलियाँ एक दूसरे के पांचों उंगलियों को जकरे हुए थे, जब विकास ने अपने होठों को विकासा के होठों पर धीरे से नज़दीक किया और हल्के से चूमा!! विकासा ने एँखहें बाँध कर लिए थे मगर विकास उसके चेहरे को निहार रहा था…और उसकी होंठ को चूमने के बाद विकास ने धीरे से कहा, “ई लव यू”….. विकासा शरमाई, सर झुकाया और धीरे से जवाब दिया गालों पार लाली लेट हुए, “ई लव यू टू” फिर तो विकास की लग गयी यारो….. उसने, विकासा को उसे दीवार से दबा दिया और अपने जिस्म का वज़न विकासा के पूरे जिस्म पर आ गया और विकासा कैद हो गयी विकास की बाहों में और दोनों के मुँह एक दूसरे के मुँह को चूमने लगे……

रात को विकास सो नहीं पा रहा था. सिर्फ़ विकासा की याद आ रही थी उससे. उसे दृष्ट की को सिर्फ़ सोच नहीं, फील कर रहा था. किस तरह से विकासा की जिस्म उसके जिस्म से सट्टे हुए थे, कैसे उसकी बूब्स खुद के छाती पर डब्बे हुए थे और उसके जीभ विकासा की जीभ को चुस्स रहा था….. विकास का खड़ा हो गया था बिलकोल रात को बिस्तर पर, करीब सारे ग्यारह बजे थे. और उसी दृष्ट को फील किए जा रहा था. विकासा एक टाइट छुरीदार में थी, और उसकी दुपट्टा काँधे से सरक गयी थी, और किस करते वक्त विकास की एँखहें विकासा के कंधे पर गयी और उसकी ब्रा की स्ट्रॅप्स कंधे पर नज़र आई थी…उसे मुलायम गोरी चामरे पर उसे ब्रा की स्ट्रॅप का होना अरॉटिसिज़म को और मज़बूत कर रहा था और विकास उसे वक्त भी बहुत उत्तेजित हो गया था, खड़ा हो गया था और विकासा की जाँघ पर अपने कमर को दबाते हुए अपने खड़े लंड को दबाया था और उसे वक्त विकासा कसमासाई थी……

यह सब याद करते हुए विकास से रहा नहीं गया और उसे वक्त विकासा को फोन किया. विकासा ने उसे लेट नाइट के बावजूद फोन उठाई. और विकास ने कहा,

“तुम्हारी बहुत याद आ रही है, तुम भी नहीं सोई किया जो तुरंत फोन उठा लिए?”

विकासा: “बस नींद आने ही वाली थी के फोन बज गयी, तुम क्यों नहीं सोए अभी तक?”

विकास: “कहा ना तुम्हारी याद सटा रही है अब! – सूणों एक काम करो कल मिलते हे!”?

विकासा: “कल? कब? कल काम पर जाना है!”

विकास: “मत जाओ एक लीव लेलो मैं भी कल सिक रिपोर्ट करता हूँ!”

विकास: “क्यों? इसे बेचैनी क्यों?”

विकास: पता नहीं, बस बोलो लीव ले सकती हो या नहीं!”

विकासा: “हेलो! आर्डर दे रहे हो या रिकवेस्ट कर रहे हो? कोमांडो हो तो मुझपर इसे आर्डर नहीं चलेगा सर जी!! हिहीही”

विकास “मज़ाक चोररो और बताओ आ रही हो मिलने या नहीं?”

विकासा: “ओके ओके ठीक है, कल लीव ले लेती हूँ अब खुश? चलो अब गुड नाइट स्वीट ड्रीम्स और मुऊऊुुुुआााआः”

loading...

विकास जवाब दे ही रहा था के हँससटे हुए विकासा ने फोन काट दिया.

loading...

सुबह को फिर फोन पे बात हुई और मिलने की जगह पर दोनों मिले 10 बजे! वहाँ बात हुई के कहाँ जाएँगे. विकासा ने पूछा, “कहाँ चलें?”

विकास ने कहा, “देखो ओपन में चारों तरफ लोग हे, भीड़ भाड़ से कहीं दूर चलते हे.”

विकासा: “हाँ, मगर कहाँ?”

विकास: “एक होटल रूम में चलें?”

मुस्कुराते हुए विकासा ने एक तरफ देखते हुए कहा, “नियत तो ठीक है जनाब की?”

विकास बोला: “देखो 24 साल का हो गया हूँ आज तक किसी लड़की के साथ वक्त नाहबीन बिठाया, कोई नहीं था मेरा, और अब मिली हो तो अरमानों को पूरा करलूँ!”
विकासा तैयार थी जाने के लिए और दोनों एक होटल के रूम में पोंहुचे.

विकासा एक कुरती में थी, उसकी की उम्र 23 थी, यानि एक साल विकास से छोती थी. मॉडर्न थी, फिर भी लड़की थी और लड़कियों जैसे नजाकत, अड़ाएन, फुल फेमिनिटी तो थी उसे में.

बिस्तर पर अपने हॅंडबॅग को रख कर विकासा रूम के चारों तरफ देखने लगी और उसके गाल लाल हो गये क्योंकि उसको पता था के एक कमरे में आए हे तो किया होने वाला होगा. उधर विकास का दिल जोरों से धड़क रहा था और उसके समझ में नहीं आ रहा था कैसे स्टार्ट करे!

 

 

और विकास काफी जज़्बाती होकर विकासा को पीछे से उसके बाहों के नीचे से अपने बाज़ुओं को करते हुए उसको जकड़ा और विकासा के पीछे वाले हिस्से के कांधों पर अपने चेहरे को रखा और कहा, “देखो मैं ने आज तक किसी को प्यार नहीं किया और आज पहली बार एक लड़की के साथ एक कमरे में अकेले आया हूँ और मुझसे इंतजार नहीं हो रहा, मैं बहुत बेकाबू हूँ और पता नहीं किया कर बैठून….तुम बहुत मस्त हो और मैं बेकरार, मुझको रोकना मत प्लीज़…..”

विकासा ने उसके हाथों को अपने फ्रंट पार्ट पर अपने हाथों में जकरे हुए सर को मूधकर उसके चेहरे को देखते हुए मुस्कराई और विस्पर में कहा, “मैं ने रोका है किया तुमको हम?”

उसे वक्त दोनों खड़े हुए थे और विकास का लंड विकासा की चुतड़ो पर दबा हुआ था जिस्सको विकासा ने फील किया और उसका चेहरा लाल हो गया था…. और आहिस्ते आहिस्ते विकास का जीभ विकासा के कंधों से होते हुए उसकी गालों तक पोंहुचे, फिर आहिस्ते आहिस्ते उसके होठों तक….. तब भी विकास विकासा के पीछे खड़ा था उसको जकरे हुए. और धीरे से विकास ने अपने एक हाथ को विकासा के काँधे से लेट हुए उसकी बूब पर किया फिर तुरंत विकासा ने अपने हाथ को उसके हाथ पर ज़ोर से दबाया अपने जिस्म को उसके जिस्म से ज्यादा ज़ोर से दबाए हुए…..

फिर होना किया था; दोनों डायरेक्ट बेड पर हो गये….. इस बार विकासा पेट पर थी और विकास उसके ऊपर, दोनों एक लंबे किस में खोए हुए थे. और किस करते वक्त विकास का हाथ विकासा की जिस्म के हर कोने को तराश रहा था, हाथ फेयर रहा था चारों तरफ, कुरती के नीचे हाथ घुसेड़ दिया, बूब के तरफ हाथ बढ़ा रहा था पर विकासा उसको हर वक्त रोक लेती थी उसके हाथ को अपने हाथ में पकड़ कर…. जब विकास ने अपना हाथ उसकी कमर पर फेरा और उसकी सलवार के अंदर हाथ डालना चाहा तब भी विकासा ने विकास का हाथ थाम लिया और किस को रोकते हुए अपने सर को पीछे के तरफ किया कसमसाते हुए…. विकास ने उसके कानों में कहा, “मुझे इसकी जरूरत है बेबी, मत रोको मुझे, 24 साल का हो गया हूँ आज तक नहीं किया करने दो ना, आगुए बढ़ने दो मुझे…..” और विकासा ने डब्बे आवाज़ में कहा, “3 महीनों में हमारी शादी है 3 महीने इंतजार नहीं कर सकते तुम किया, सब्र तो करो!”

मगर तब तक विकास का हाथ विकासा के सलवार के अंदर पोुंच गया था और उसके उंगलियाँ विकासा की पॅंटीस को चुहह रहे थे….. विकासा ने “इसस्स्स्शह” किए और अपने टाँगों को ऊपर किया कुछ इस तरह से के विकास का हाथ उसके टाँगों और पेट के बीच दब गया और विकास कोई मूवमेंट नहीं कर पा रहा था उंगलियों से….. उसे वक्त विकास का जीभ विकासा के गले पर था और जीभ को धीरे धीरे फेयर रहा था गले के नीचे के तरफ बढ़ते हुए……

विकासा की साँसें बहुत तेज चल रही थी जिससे उसकी चुचियों में हरकत दिख रहे थे नीचे ऊपर होते हुए… वो देख कर विकास से और रहा ना गया और वो कपड़े समेट विकासा के ऊपर चढ़ गाया….. विकासा पीठ पर ही लेती हुई थी और उसने एँखहें बाँध कर लिए…. उसे पोज़िशन में विकास का लंड कपड़े के अंदर से ही विकासा की ठीक चुत के ऊपर रगड़ रहा था.. विकास ने अपने कमर को हिलाते हुए मूवमेंट किए और विकासा के गालों को चुस्सने लगा जोश में आते हुए…. विकासा की सलवार मुलायम कपड़े की थी तो विकास को उसकी उसे पार्ट की जिस्म बहुत अच्छी तरह से फील हो रहा था, उसका लंड इस कदर रगड़ रहा था के विकास को लग रहा था के विकासा ने कपड़ा पहना ही नहीं…..

और विकासा ने अपने बाहों को विकास के कांधों के ऊपर फेरते हुए आख़िर उसको अपने बाहों में ले ही लिया और चूमने लगा विकास के गालों को….. तब विकास को जैसे इशारा मिल गया आगे बढ़ने के लिए और आहिस्ते आहिस्ते उसने विकासा के कपड़े उतारने शुरू किए…… सब से पहले विकासा की कुरती निकले विकास ने धीरे धीरे उसकी जिस्म की गोरी रंग को निहारते हुए…., और फिर आहिस्ते से अपने बाज़ुओं को पीछे करते हुए उसकी ब्रा को अनहुक करने की कोशिश किया मगर अनहुक नहीं हो रहा था उसस्स से….. विकासा मुस्कराई और खुद उसी ने अपने ब्रा को अनहुक किया… जिसे समय वो ब्रा खोल रही थी विकास की एँखहें उसकी चुचियों पर गाड़े हुए थे… इसे निहाआर रहा था जैसे उसको चबाह कर निगल जाएगा….यह जिंदगी में पहली बार विकास इतनी खूबसूरत बूब्स देख रहा था अपने आंखों के सामने… विकासा ने होठों को दाँतों में दबाते हुए विकास की आंखों में देखा और कहा, “किया हुआ? पसंद नहीं हे किया?” बिना कोई जवाब दिए विकास ने झट से बूब को अपने हाथ से दबाया और जल्दी से मुँह में ले लिया चुस्सने के लिए…. चुचियाँ बारे बारे थे, उभरे हुए, निप्पल पर विकास ने हल्के से जीभ फेरा जिससे विकासा ने एक इसे अंगराई लेते हुए “उफफफफ्फ़” किया के विकास से रहा नहीं गया और जल्दी से उसका हाथ सलवार के तरफ बढ़ा और विकास उठ बैठा सलवार को उतारते हुए…..

loading...
, , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *