Chut Gulab Ke Phool Jaisi Thi

loading...

दोस्तों मैं भी आज आप लोगो के लिए अपनी एक सच्ची कहानी को लेकर आया हूँ और मैं आज पहली बार कहानी लिखने जा रहा हूँ तो मैं आप लोगो से उम्मीद करता हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आयेगी और इस कहानी को पढने में आप लोगो को बहुत मज़ा भी आएगा | मैं कहानी को आगे बढ़ाने से पहले अपने बारे में बता देता हूँ | दोस्तों मेरा नाम रामनिवाश है और मेरी उम्र 30 साल है | मेरी हाईट 6 फुट 4 इंच है | मेरी हाईट के हिसाब से मेरी बॉडी भी काफी ठीक ठाक है जिससे मैं दिखने में काफी हट्टा कट्टा लगता हूँ | मैं रहने वाला तो एक गाँव का हूँ पर कुछ सालो से मैं शहर में ड्राइवर की नोकरी करता हूँ | मैं आप लोगो का ज्यादा टाइम न लेते हुए सीधे कहानी को शुरू करता हूँ | Chut Gulab Ke Phool Jaisi Thi Malik Ki Beti Ki.

ये कहानी अभी 1 साल पहले की है जब मैं शहर में रहता था | तब एक दिन की बात है की एक बड़े आदमी को मैंने बचाया था | जब मैंने उसे चोरो से बचाया तो उसने मुझे धन्यवाद बोला फिर मुझसे बोला की तुम बहुत हिम्मती हो | तुम्हारा क्या नाम है तो मैंने उसे अपना नाम बताया | तब उसने मुझसे कहा तुम कहाँ रहते हो तो मैंने उसे अपने गाँव का नाम बता दिया | फिर वो मुझे अपने साथ घर ले गया और चाय पिलाई फिर मुझसे पूछने लगा की तुम यहाँ क्या करते हो | तब मैंने से बताया की मैं काम की तालाश में शहर आया था | तब उसने मुझसे कहा की ठीक है तुम मेरे घर पर ड्राइवर की नोकरी कर सकते हो | मैं उसी दिन से उनके घर पर ड्राइवर की नोकरी करने लगा और मैं उसकी लड़की को कॉलेज ले जाता और छुट्टी होने के बाद घर ले आता था | दोस्तों मैं उस लड़की के बारे में बता देता हूँ | उसनका नाम मीनाक्षी था और वो दिखने में बिलकुल डॉल की तरह लगती थी | मीनाक्षी की उम्र 19 साल थी और उसकी उम्र के हिसाब से वो बहुत सेक्सी लगती थी | मैं जब उसको शॉट स्क्लत में देखता था तो मेरे मन में कुछ कुछ होने लगता था और वो मुझे देखकर हँस देती थी | दोस्तों जब वो कॉलेज ड्रास पहनती थी तो वो और भी ज्यादा सेक्सी लगती थी | उसकी मोती मोती टांगे जोकि आधी खुली रहती थी | मैं उसकी खुली दूध की तरह साफ टांगो को देखकर ये सोचने लगता था की उसकी टांगे जब इतनी साफ हैं तो उसकी चूत तो गुलाब की तरह होगी |

 

दोस्तों मुझे ये नही पता था की मीनाक्षी भी मुझे पसंद करती है | एक दिन की बात है जब मैं मीनाक्षी को कॉलेज छोड़ने जा रहा था तो वो मुझे बहुत घुर घुर कर देख रही थी | जब वो मुझे घुर घुर कर देख रही थी तब |

 

मैं – मीनाक्षी इतना क्या घुर कर देख रही हो ?

मीनाक्षी बोली कुछ नही और अपने हाथ से मेरे मसल्स को सहलाती हुई बोली आपने बॉडी बहुत अच्छी बना रक्खी है |

loading...

मैं – हाँ मीनाक्षी वो तो मेरे अच्छे हैं ही |

loading...

फिर मैं और वो कुछ देर तक ऐसे ही एक दुसरे से बात करते हुए चल रहे थे | मैं जब कॉलेज के पास पहुच गया तो वो मुझसे बोली की मैं आपको बहुत पसंद करती हो और ये कहकर चली गयी | जब मीनाक्षी कॉलेज चली गयी तो मैं उसकी बात को सोच सोच कर मन ही मन में बहुत खुश हो रहा था | फिर जब मैं छुट्टी के टाइम मीनाक्षी को उसके कॉलेज से लेने गया तो वो मुझसे बोली की तुमने कुछ बताया नही | तब मैंने उससे कहा की मैं क्या कहूँ तो वो मुझसे बोली की तुम मुझसे प्यार करते हो या नही | दोस्तों तब मैंने भी हाँ कह दिया | जब मैंने उससे हाँ कहा तो उसने मेरे गाल पर एक किस की और मुझे घुर घुर कर देखने लगी | मैं उस दिन तो उसको घर छोड़ दिया | अब मैं जब उसको कॉलेज छोड़ने जाता था तो मैं उसकी होठो पर भी किस करता था और वो मेरी होठो को मुंह में रख कर चूसती थी | अब मैं और मीनाक्षी एक दुसरे को किस कर लेते थे पर मैं उसकी जवानी के मजे लेना चाहता था | दोस्तों एक दिन की बात है जब मैं उसको कॉलेज से लेके आ रहा था तो मैं कार को रास्ते में रोक दिया और कार के सारे सिसो को बंद कर दिया | फिर मीनाक्षी को पीछे वाली शीट पर लेटा दिया | दोस्तों वो मेरा पूरा साथ दे रही थी और मैं उसे लेटा कर उसके ऊपर चढ़ गया और उसकी गुलाबी ओठो को मुंह में रख लिया | मैंने जब उसकी होठो को मुंह में रख लिया तो वो मेरी होठो को चूसने लगी | जब वो मेरी होठो को मुंह में रख कर चूसने लगी तो मैं उसकी होठो को चूसने के साथ उसके बूब्स को कपडे के ऊपर से दबाने लगा | मैं उसके बूब्स को कपडे के ऊपर से दबा रहा था तो मीनाक्षी की सांसे तेज चलने लगी | मीनाक्षी तेज तेज सांसे ले रही थी और मैं उसके बूब्स को दबा रहा था | मैं उसके बूब्स को मुंह में रख कर चूसने लगा और एक हाथ को उसकी चूत में घुसा दिया तो उसकी तेज सांसे सिसकियाँ में बदल गयी | जब मैंने उसकी चूत में अपने हाथ को घुसा दिया तो उसने मुझे ये करने को माना किया और कहा की घर चलो |

 

दोस्तों जब उसने मुझसे घर चलने को कहा तो मैं उससे कहा की बस 10 मिनट और रुक जाओ मेरा काम हो जायेगा | तब मीनाक्षी ने मुझसे कहा रात में कर लेना पर अभी घर चलो तो मैं उसको घर लेकर चला आया | फिर जब रात हो गयी तो उसने मेरे पास फ़ोन किया और कहा की मेरे कमरे में आओ और मैं बिना किसी डर के उसके कमरे में चला गया | दोस्तों जब मैं उसके कमरे में गया तो मैंने देखा की वो ब्रा और पैंटी में बिस्तर पर लेटी हैं | मैं उसको ब्रा और पैंटी में देखकर देखता ही रह गया | वो सच में डॉल ही लग रही थी | तब मैंने उसकी होठो को मुंह में रख कर चूसने लगा और वो मेरी होठो को मुंह में रख कर चूसने लगी | मैं उसकी होठो को चूसने के साथ उसकी ब्रा को खोल दिया तो उसके बड़े बड़े बूब्स उछल कर सामने आ गए | उसके बड़े बूब्स पर भूरे निप्पल बहुत अच्छे लग रहे थे | तब मैंने उसके एक दूध के निप्पल को मुंह में रख कर चूसने लगा और दुसरे दूध को हाथ में पकड कर दबाने लगा | मैं उसके दूध को जब मुंह में रख कर चूसने लगा तो वो मेरे सर को दबाती हुई अह अह आ आ ऊ….. आ आ ऊ ऊ उई हाँ माँ….. की सेक्सी आवाज करने लगी | मैं उसके बूब्स को दबाने के साथ उसकी चूत में ऊँगली घुसा दी जिससे उसकी आवाजे तेज हो गयी | मैं उसकी चूत में ऊँगली को जोर जोर से अन्दर बाहर करने लगा | वो आ आ ऊ ऊ उई हाँ माँ… ऊ ऊ ऊ अ अ अ उई माँ…. की सेक्सी आवाजे करती हुई बिस्तर पर इधर उधर हो रही थी | तब मैंने उसकी चूत में अपने मुंह को भी घुसा दिया और चाटने लगा | मैं उसकी गुलाबी चूत में अपनी जीभ को घुसा कर चाट रहा था और वो आ आ ऊ ऊ उई हाँ माँ… आ आ ऊ ऊ उई हाँ माँ… की आवाज कर रही थी |

 

फिर मैंने अपने कपडे निकाल दिए और और मोटे लंड को उसके हाथ में पकड़ा दिया | वो मेरे लंड को देखकर ओ मई गॉड बोलती हुई मुंह में रख लिया और जोर जोर से अन्दर बाहर करती हुई चूसने लगी | वो मेरे लंड को मुंह में रख कर ऐसे ही 5 मिनट तक चूसती रही और मैं चूसता रहा | फिर उसने मेरे  लंड पर कंडोम चढ़ाया तब मैंने  उसकी गुलाबी चूत में लंड को घुसाने लगा | दोस्तों उसकी चूत में मेरा लंड बहुत देर बाद थोडा घुसा तो मैंने उसकी चूत में धीरे से एक धक्का मारा जिससे मेरा लंड उसकी चूत में घुस गया | मेरा लंड जैसे ही उसकी चूत में घुसा तो उसके मुंह से जोर की दर्द भरी आवाज निकल गयी उई माई मार गयी और उसकी चूत से खून निकल आया | दोस्तों उसकी वो पहली चुदाई थी और मेरा मोटा और लम्बा लंड जोकि उसकी चूत को चोदकर भोसड़ा बना देने वाला था | तब मैंने उसकी कमर को पकड लिया और तेज धक्को के साथ अन्दर बाहर करने लगा | मैं उसकी चूत में जितने ही जोर के धक्के मारता वो उतने जोर ही उछल जाती | मैं उसकी चूत में जोरदार धक्के मार रहा थे | वो सेक्सी आवाजे करती हुई चुद रही थी | दोस्तों उसका बिस्तर इतना मस्त था की मैं उसकी चूत में जितने जोर से धक्के मारता उसको पूरा बिस्तर उनते ही जोर से हिलाता | मैं उसकी चूत में ऐसे ही 15 मिनट तक जोरदार धक्के मारता रहा और वो मेरे धक्के के मज़े लेती हुई चुदती रही | मैं उसको 15 मिनट तक चोदने के बाद झड़ गया |

 

फिर उसने मेरे लंड को मुंह में रख कर साफ किया और मैंने उसकी चूत में ऊँगली डाल कर चूत का पानी बाहर निकल दिया | दोस्तों मैंने उसकी उस रात 2 बार जम कर चुदाई थी की और सुबह जब मैं उसको कॉलेज छोड़ने गया तो वो मुझसे बोली की यार कल रात मैं मेरी चूत को तुमने बड़ा कर दिया | उस चुदाई के बाद मैं और वो अक्सर चुदाई का रंगीन खेल खेलते थे |

loading...
, , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *